नमस्कार दोस्तों आशा करता हूं आप बिल्कुल ठीक होंगे आपका हार्दिक स्वागत है मेरे इस लेख में आज के इस लेख के मदद से हम CD क्या हैं और DVD क्या हैं और यह कैसे काम करता है के बारे में संपूर्ण जानकारी पूरे विस्तार से जानने वाले हैं और इसके बारे में हम समझने भी वाले हैं।

दोस्तों अगर आपने पुराने कंप्यूटर या पुराने TV का उपयोग किया होगा तो आपको उसमें CD और DVD का नाम जरूर सुनने को मिला होगा और आपने शायद CD और DVD का उपयोग भी किया होगा। मगर हम आज के युग के बारे में बात करें तो नए-नए टेक्नोलॉजी आ गया है और अब धीरे-धीरे सीडी और डीवीडी का नाम विलुप्त होते जा रहा है लेकिन आज भी कई सारे लोग ऐसे भी हैं।

जो जानना चाहते हैं कि आखिर CD क्या है और DVD क्या है और DVD के क्या फायदे हैं और DVD के क्या नुकसान हैं और CD के क्या फायदे हैं और CD के क्या नुकसान हैं और CD और DVD में क्या अंतर है इन्ही सभी चीज़ों से जुड़ी जानकारी को वो प्राप्त करना चाहते है।

इसीलिए हमने इस लेख  को स्टेप बाय स्टेप लिखकर के CD और DVD से जुड़ी जानकारी को देने की कोशिश की है। अगर आपको सच में CD और DVD से जुड़ी जानकारी को प्राप्त करना है तो आप से मेरा यह अनुरोध है कि मेरे इस लेख को ध्यान से पूरे अंत तक पढ़े तभी आपको CD और DVD से जुड़ी जानकारी प्राप्त हो पाएगी। तो चलिए शुरू करते है इस लेख को बिना देरी किये हुवे।

इंटरनेट के फायदे और नुकसान

CD क्या हैं ?

What is compact disc (CD)? - Definition from WhatIs.com

दोस्तों अगर आपके मन में यह ख्याल है कि आखिर CD क्या होता है तो आप हमारे इस टॉपिक के साथ अंत तक बने रहे क्योंकि हम इस टॉपिक में आपको बताएंगे कि CD क्या होता है तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए हम आपके जानकारी के लिए बता दें कि CD एक प्रकार का optical माध्यम होता है जो आपके digital data को store यानी कि संग्रहित करने के काम आता है।

अगर हम इस CD के आविष्कार के बारे में बात करे तो CD का आविष्कार James T. Russell नामक ब्यक्ती ने किया था, और हम आपके जानकारी के लिए बता दे कि James T. Russell एक American आविष्कारक थे। क्या आपको पता है कि इस अविष्कार में Optical Transparent Foil पर digital data को स्टोर किया जाता है।

दोस्तों हम आपके जानकारी के लिए बता दे कि 1982 में Sony company और Philips Company ने इस का निर्माण करना चालू कर दिया था। जिस समय के दौरान CD का उपयोग शुरू हुआ था। उस समय रील वाली कैसेट का उपयोग हुआ करता था।

दोस्तों क्या आपको पता है कि पहले CD का निर्माण sound को record करने के लिए और उसे किसी device में चलाने के लिए ही किया जाता था लेकिन बाद में इसमें और सुविधाएं भी जोड़ी गई और इसे data को Store करने के लिए भी उपयोग में लिया जाने लगा। CD एक बहुत कम वजन वाली device होती है और इसे आप आराम से कहीं भी ले जा सकते हैं।

बिना किसी दिकत के यह तकरीबन 4.75 इंच की होती है। दोस्तों अगर आप CD के Full form बारे में जानना चाहते हैं तो हम आपके जानकारी के लिए बता दें कि सीडी का Full form Compact Disk है होता है । तो चलिए दोस्तों इसी के साथ हम अपने टॉपिक की ओर बढ़ते हैं और सीडी और डीवीडी से जुड़ी कुछ और नई जानकारी को प्राप्त करते हैं।

CD काम कैसे करता है ?

अगर आप जानना चाहते हैं कि CD किस तरह से काम करता है तो हम आपको इस टॉपिक में बताएंगे तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि

इसके काम करने का तरीका Hard Disk से ढेर कुछ अलग है। CD में track spiral और Flat होते है। यह एक प्रकार की रीड ओनली मेमोरी है। CD पर डाटा एनकोड करने के लिए Laser technology का उपयोग किया जाता है।  laser बीम की मदद से CD पर किसी भी तरह की Data की Encoding होती है। Compact Disk बहुत ही पतला Disk होती है जो Metal और plastic से बानी होती है। CD में लगभग  Total तीन layers होते है। Middle वाला layers Aluminum का होता है।

अगर आपने compact disk यानी कि CD को Notice जरूर किया होगा की तो उसकी एक Side Shiny यानि कि थोड़ी बहुत चमकीली और एक Side Dull होती है।  जिसमे से Shiny Side पर से लेजर बीम टकराते है और इस प्रोसेस से CD पर से डेटा रीड किया जाता है।

CD में डेटा राइट करने के लिए CD Writer का इस्तेमाल किया जाता है। इससे CD में स्टोर डेटा को भी Read भी कर सकते है। तो दोस्तों कुछ इस तरह से CD काम करता है।

कंप्यूटर से वायरस कैसे निकाला जाता है | How to Remove virus from computer

 CD के फायदे

दोस्तों इस टॉपिक में हम CD के लाभ से जुड़ी जानकारी को पूरे विस्तार से प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारे इस टॉपिक के साथ अंत तक बने रहें तभी आपको यह टॉपिक अच्छे से समझ में आएगा तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए

यह कCD आपको बाजार में बहुत ही कम कीमत पर काफी आसानी से मौजूद हो जाता है, भारत में यह 10 से ₹25 के बीच में बड़े आराम से किसी की भी मिल जाता है।

आपको तो मैंने ऊपर के टॉपिक में बताया भी था कि यह आकार में काफी छोटा पतला और नाजुक होने के साथ साथ बहुत आसानी से एक जगह से दूसरी जगह ले जाने योग्य होता है।

इसके अंदर जमा किए गए डेटा को बहुत ही तेजी से Access किया जा सकता है।

इसका उपयोग सभी प्रकार के डिजिटल data जैसे की audio, video, Image, Software Product, Text को जमा करने के लिए किया जा सकता है। तो चलिए दोस्तों इसी के साथ हम अपने टॉपिक की ओर बढ़ते हैं और सीडी और डीवीडी से जुड़ी कुछ और नई जानकारी को प्राप्त करते हैं।

Computer या Laptop में Window कैसे install करे | How to install Window in…

CD के नुकसान

दोस्तों इस टॉपिक में हम DVD के हानि से जुड़ी जानकारी को पूरे विस्तार से प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारे इस टॉपिक के साथ अंत तक बने रहें तभी आपको यह टॉपिक अच्छे से समझ में आएगा तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए

दोस्तों अगर हम सीडी खरीदने के सबसे बड़े हानि के बारे में बात करें तो वह है कि इसमें 700 MB तक का data ही आप स्टोर कर सकते हैं क्योंकि इस में स्टोरेज बहुत कम मिलता है तो यह भी आपका बड़े नुकसान में से एक है।

क्या आपको मालूम है कि अगर आप एक बार किसी भी data को disc को CD में जमा कर देते है तो उस के बाद उस data को किसी बजी तरह से बदला नहीं जा सकता है।

इसके जिस भाग में data जमा किया जाता है, वह काफी नाजुक होता है तथा खरोंच लगने से या चोट लगने से खराब हो सकता है। तो CD के बड़े हनी में से एक है क्योंकि यह थोड़े से स्क्रेच या फिर CD पे दाग आने पर ही आपकी CD लगभग सभी चीजों का क्षमता खो बैठता है और यह अच्छे तरीके से काम नहीं करता है

कॉम्पैक्ट डिस्क का उपयोग एक निश्चित अवधि के लिए ही किया जा सकता है क्योंकि प्रत्येक बार उपयोग के बाद डिस्क में लगने वाले खरोंच के कारण इसकी क्वालिटी ख़राब होते जाती है और एक समय के बाद डिस्क पुरे तरह से खरब हो जाता है। तो यही कुछ हानि है जो आपको CD ना खरीदने पर मजबूर करती है।

MOUSE Full Form in Hindi

DVD क्या होता हैं ?

Buy DVD Player for TV, HD DVD Player with HDMI & AV Cable for Projector,  1080P Full HD CD Player, Disc Player for Video & Media CD - All Region Free  -

दोस्तों अगर आपके मन में यह ख्याल है कि आखिर DVD क्या होता है तो आप हमारे इस टॉपिक के साथ अंत तक बने रहे क्योंकि हम इस टॉपिक में आपको बताएंगे कि DVD क्या होता है तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए हम आपके जानकारी के लिए बता दें कि DVD की खोज CD यानी कि ( Compact Disk ) के बाद ही की गई थी।

Compact Disk के निर्माणकर्ता ने CD में कुछ ढेर सारे परेशानियों को देखा तब जा कर के उन्होंने CD का modified version यानी कि DVD बनाया।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि CD में हम केवल 700 MB के करीब ही data Store कर सकते हैं और अगर हम उससे अधिक data score करना चाहते हैं तो हमें दूसरी CD की जरूरत पड़ेगी और इसी के मद्देनजर CD के बाद अधिक data को store करने के लिए DVD का निर्माण किया गया और इसे market में launch किया गया।

वर्तमान में DVD का निर्माण कई सारे कंपनियां करती है, जिस में Sony, Panasonic, Phillip,और Toshiba जैसी बहुत बड़ी बड़ी प्रमुख company भी शामिल है। दोस्तों अगर हम DVD के खोज के बारे में बात करे तो DVD का सबसे पहला आविष्कार वर्ष 1995 में हुआ था और इन्हें एक साथ लगभग सभी जगह पर Release नहीं किया गया था।

Japan में DVD वर्ष 1996 में, Europe में साल 1998 में, America में साल 1997 में, और Australia में वर्ष 1999 में release किया गया था। इसका वजन लगभग 16 g का होता था और इसकी थिकनेस तकरीबन 1.2 mm होती हैं। इसकी layer प्लास्टिक की बनी होती हैं। तो गाइस कुछ इस तरह से DVD का अविष्कार हुवा था।

आपकी जानकारी के हम लिए बता दें कि DVD में काफी ज्यादा मात्रा में डाटा को स्टोर कर सकते हैं। DVD 4.7 GB की होती है और DVD का उपयोग करने के लिए हमें DVD driver की आवश्यकता होती है। 

क्या आपको मालूम है कि DVD भी CD की पूरी तरह ही Portable होती है। इसे हम कहीं भी ले कर जा सकते हैं और इस में हम एक साथ बहुत सारी अलग अलग तरह के पिक्चरें, Video भी Store कर सकते हैं।

दोस्तों अगर आप DVD के Full form बारे में जानना चाहते हैं तो हम आपके जानकारी के लिए बता दें कि सीडी का Full form Digital Versatile Disk और इसके अलावा इसे digital video disk भी कहते है। तो चलिए दोस्तों इसी के साथ हम अपने टॉपिक की ओर बढ़ते हैं और सीडी और डीवीडी से जुड़ी कुछ और नई जानकारी को प्राप्त करते हैं।

DVD काम कैसे करता है?

अगर आप जानना चाहते हैं कि DVD किस तरह से काम करता है तो हम आपको इस टॉपिक में बताएंगे तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि

DVD के उपयोग के लिए आपको सबसे पहले DVD Writer की ट्रे में DVD / disk को रख कर इसको बंद करना होगा, इसके बाद डिस्क घूमना शुरू कर देती है क्योकि इस पर laser गिरती है और DVD इसी laser की मदद से disk की सारी data को पढ़ती है और फिर उसको दिखने के लिए तैयार होता है और फिर आपका computer उस data को आपकी computer desktop पर दिखता है। तो दोस्तों कुछ इस तरह से DVD काम करता है। तो अगर आप इसको देखना चाहते है तो आप इसे बाजार में काफी सस्ते दामो में

DVD के लाभ

दोस्तों इस टॉपिक में हम DVD के लाभ से जुड़ी जानकारी को पूरे विस्तार से प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारे इस टॉपिक के साथ अंत तक बने रहें तभी आपको यह टॉपिक अच्छे से समझ में आएगा तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए DVD की Store करने की क्षमता बहुत ही अद्धिक होती है अर्थात इस में आप ज्यादा data को Store कर सकते हैं।

DVD में आप अधिक से अधिक टीम 17.08 GB तक का data store कर सकते हैं। दोस्तों अगर हम इसके दूसरे फायदे के बारे में बात करें तो यह बहुत ही हल्का होता है जिसके मदद से आप इसे एक जगह से दूसरे जगह पर काफी आसानी से ले जा सकते हैं और यह हल्का होने के साथ-साथ portable भी होता है और इसे उपयोग करना भी बहुत आसान होता है।

DVD में Sound Quality और Video बहुत ही बेहतरीन तरह की होती है। इस से आपको picture देखने या video देखने का पूरा मजा आता है। DVD को कीमत में काफी सस्ती होती है। DVD का drive CD को भी आसानी से पढ़ सकता है और उसकी file को access तथा play कर सकता है।

तो दोस्तों कुछ यही बेहतरीन फायदे हाय डीवीडी के तो चलिए दोस्तों इसी के साथ हम अपने टॉपिक की ओर बढ़ते हैं और सीडी और डीवीडी से जुड़ी कुछ और नई जानकारी को प्राप्त करते हैं।

DVD से हानि

दोस्तों इस टॉपिक में हम DVD के हानि से जुड़ी जानकारी को पूरे विस्तार से प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारे इस टॉपिक के साथ अंत तक बने रहें तभी आपको यह टॉपिक अच्छे से समझ में आएगा तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए

DVD को हम CD drive में कभी भी नहीं चला सकते। इसका कोई भी standard नहीं है। आपको तो मालूम ही होगा कि DVD में आसानी से स्क्रैच और दाग पड़ जाते हैं जिसके कारण यहकई बार damage भी हो जाती है और यह किसी भी multimedia को या  सही से वीडियो या पिक्चर नहीं चला पाती है। इसमें data को store करने के लिए बर्निंग software की जरूरत पड़ती है।

वैसे अब लोग DVD का उपयोग भी कम करने लगे हैं क्योंकि आज के नए युग और नए टेक्नोलॉजी के दौर में लोग ढेर सारे नए जवाने की सुविधा चाहते हैं और इसके लिए ही लोग अब memory card अथवा  pen drive मे बड़ी से बड़ी pictures और  video download  कर के देखते हैं और यह दोनों चीजें DVD से वजन में बहुत ज्यादा हल्की और बहुत ही छोटी भी होती है।

इसलिए हो सकता है कि भविष्य में DVD भी लुप्त प्राय हो जाए। तो दोस्तों कुछ यही सब DVD की हानी है जो लोगो को इसे ना खरीदने पर मजबूर करते हैं। तो चलिए दोस्तों इसी के साथ हम अपने टॉपिक की ओर बढ़ते हैं और सीडी और डीवीडी से जुड़ी कुछ और नई जानकारी को प्राप्त करते हैं।

CD और DVD में अंतर है

Difference Between CD and DVD

दोस्तों जैसे कि हमने ऊपर के टॉपिक में CD और DVD से जुड़ी ढेर सारी जानकारी प्राप्त की है तो उसी तरह से अब हम इस टॉपिक में CD और DVD के बीच के अंतर को जानने वाले हैं तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए

CD को हम compact disk कहते हैं DVD को हम digital versatile disk कहते हैं।

CD में file store करने की क्षमता DVD से बहुत ही कम होती हैं।

और दोस्तों उसी तरफ़ हम DVD में  में CD से ज्यादा file Store कर सकते हैं।

DVD की क्षमता CD से थोड़ी बहुत ज्यादा होती है।क्या आपको मालूम है कि DVD के आ जाने से अब CD का उपयोग करना लोगो के बीच कम कर दिया गया हैं। DVD CD से  बहुत ही बेहतर होता है फिलहाल पूरी दुनिया में DVD का इस्तेमाल ज्यादा मात्रा में हो रहा है। पहले CD का निर्माण हुआ था और उसके बाद DVD का निर्माण हुआ था।

दोस्तों शायद इस लिए DVD CD का Modified Version भी है। जबकि CD को बनाने में केवल एक ही लेहर का उपयोग  होता है।

DVD में तकरीबन 2 Layer का उपयोग होता है इसी के कारण हम DVD में CD से ज्यादा data Store कर सकते हैं।

CD में कम मेमोरी स्टोर करने की capacity होती हैं और दोस्तों उसी तरह DVD में CD से तकरीबन 6 गुना ज्यादा मेमोरी स्टोर करने की क्षमता होती है इसलिए DVD लोगों की पहली पसंद होती है।

audio और व्यापारिक डाटा को स्टोर करने के लिए CD का इस्तेमाल कभी भी नही किया जाता है।इसके बारे में देखे तो ज्यादातर लोग Software अथवा film को Store करने के लिए DVD का ही उपयोग करते हैंसीडी में केवल सीडी प्ले करने की क्षमता होती है।

DVD player में CD और डीवीडी दोनों को चलाने की क्षमता होती है। दोस्तों यही कुछ बेहतरीन अंतर है जो CD और DVD को काफी अलग बनाते हैं और इनका उपयोग भी अलग-अलग तरह से किया जाता है।

[ Conclusion, निष्कर्ष ]

दोस्तो आशा करता हूं कि आपको मेरा यह लेख CD क्या हैं और DVD क्या हैं और यह कैसे काम करता है आपको बेहद पसंद आया होगा और आप इस लेख के मदद से वह सभी जानकारी को पूरे विस्तार से प्राप्त कर चुके होंगे जिसके लिए आप हमारे वेबसाइट पर आए थे।

दोस्तों हमने इस लेख में सरल से सरल भाषा का उपयोग करके आपको CD और DVD से जुड़ी सभी जानकारी देने की कोशिश की है क्योंकि हमें मालूम है कि कई सारे लोग आज भी ऐसे हैं जो जानना चाहते हैं कि आखिर सीडी क्या है और DVD क्या है और डीवीडी के क्या फायदे हैं और DVD के क्या नुकसान हैं और सीडी के क्या फायदे हैं और CD के क्या नुकसान हैं और सीडी और डीवीडी में क्या अंतर है इन्ही सभी चीज़ों से जुड़ी जानकारी को वो प्राप्त करना चाहते है।

इसीलिए हमने इस लेखा है और आपको अपने भाषा मे समझया है। और आप पर मेरा संपूर्ण विश्वास है कि आप सभी मेरे इस लेख को ध्यान से पूरे ऑन तक पढ़ चुके होंगे और सीडी और डीवीडी से जुड़ी सभी जानकारी को प्राप्त कर चुके होंगे।

अगर दोस्तों आपको इस पोस्ट में कहीं भी कोई भी किसी भी तरह को,पढ़ने में या किसी भी चीज में कोई भी दिक्कत हुई होगी तो आप हमारे कमेंट बॉक्स में बेझिझक कुछ भी सवाल पूछ सकते हैं।

हमारी समूह आपकी मैसेज के रिप्लाई जरूर देगी और आप यह भी कमेंट में जरूर बताएं कि यह पोस्ट CD क्या हैं और DVD क्या हैं और यह कैसे काम करता है के बारे में जानकारी आपको कैसा लगा  ताकि हम आपके लिए दूसरे पोस्ट ऐसे ही लाते रहे। तो चलिए दोस्तों इसी जानकारी के साथ हम अब इस लेख को समाप्त करते हैं और अगर आपको हमरा यह पोस्ट को पढ़ने के लिए दिल से धन्यवाद………

Previous articleकंप्यूटर से वायरस कैसे निकाला जाता है | How to Remove virus from computer
Next articleTop 20 Best Agriculture Business ideas in Hindi

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here