नमस्कार दोस्तों आशा करता हूं आप बिल्कुल ठीक होंगे आपका हार्दिक स्वागत है हमारे इस लेख में आज के इस लेख की मदद से हम Telnet क्या है और इसका कैसे इस्तेमाल किया जाता है के बारे में संपूर्ण जानकारी पूरे विस्तार से प्राप्त करने वाले हैं और इसके बारे में जानने भी वाले हैं।

दोस्तों इस बढ़ती हुई टेक्नोलॉजी के दौर में आपने कई सारे अच्छे-अच्छे प्रोटोकॉल को जरूर देखा होगा या आप ने इंटरनेट पर सर्फिंग करते समय आपने Telnet शब्द को पढ़ा होगा और उसके बारे में सुना भी होगा  और उसी तरह के एक प्रोटोकोल है जिसका नाम है या  टेलनेट उसी के बारे में हम आज बात करने वाले हैं। हम आपको इस टॉपिक में बताने वाले हैं कि आखिर टेलनेट क्या होता है और टेलनेट की शुरुआत कब हुई थी और क्या अभी भी टेलनेट का उपयोग किया जाता है।

और टेलनेट को किस तरह से window में उपयोग कर सकते हैं टेलनेट किस तरह से उपयोग किया जाता है टेलनेट और पिंग में क्या अंतर है जैसे सभी  सवालों का जवाब देने के लिए हमने इस लेख को लिखा है और इस लेख में स्टेप बाई स्टेप इन सभी सवालों का उत्तर भी दिया है।

अगर आप सच में टेलीनेट से जुड़ी सभी जानकारी को प्राप्त करना चाहते हैं तो आप से मेरा अनुरोध है कि मेरे इस लेख को ध्यान से पूरे अंत तक पढ़े तभी आप को मेरा यह लेख अच्छे से समझ में आएगा तो चलिए शुरू करते हैं इस लेख को बिना देरी किए हुए।

Telnet क्या है ( What is Telnet in Hindi )

Windows 10: Enabling Telnet Client - TechNet Articles - United States  (English) - TechNet Wiki

दोस्तों अगर आपके मन में यह ख्याल है कि आखिर टेलनेट क्या है तो आप हमारे इस टॉपिक के साथ अंत तक बने रहिए क्योंकि हम इस टॉपिक में आपको बताएंगे कि तेलनेट क्या होता है तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि Telnet एक network protocol है, जो एक command line interface का इस्तेमाल कर network से connect device के साथ बेहतर तरह से communication यानी कि ( संचार ) करता हैं।

Telnet एक सरल, text-आधारित network protocol है जिसका उपयोग internet जैसे TCP/IP IP Network पर remote computer को access करने के लिए किया जाता है। remote – management के लिए Telnet सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन कभी-कभी कुछ devices विशेष रूप से network hardware जैसे Switches, Access Point आदि के initial setup के लिए बेहतर हिती है।

web पर, HTTP और FTP  protocol से आप remote computer से विशिष्ट फ़ाइलों के लिए request कर सकते हैं, लेकिन वास्तव में उस computer के उपयोगकर्ता के रूप में log in नहीं किया जाता।

Telnet के साथ, आप एक regular उपयोगकर्ता के रूप में log- in करते हैं, और आपको computer के विशिष्ट application और data के access का विशेषाधिकार होता हैं। हम आपके जानकारी के लिए बता दे कि Telnet को शाल 1969 में बेहतर तरह से बनाया गया था और बहुत ही अच्छे तरह से launch किया गया था, और बहुत पहले के ऐतिहासिक रूप से बोलते हुए, आप यह कह सकते हैं कि यह पहला internet था।

पुराने दिनों में, आपको अपने deta का उपयोग करने के लिए server तक चल के जाना पड़ता था। इसका मतलब है, अन्य बातों के अलावा, आपको server तक आने-जाने में बहुत समय बिताना पड़ता था और फिर आपको server के साथ काम करने के लिए अपनी बारी का इंतजार करना पड़ता था।

यहां तक ​​कि अगर server में एक ही समय में कई चीजें करने के लिए hardware की power होती थी, लेकिन आप इसे पूरी तरह से उपयोग करने से block कर चुके थे और आपको दूसरों के लिए अपना काम पूरा करने के लिए इंतजार करना पड़ा था। कई परिस्थितियों में आप server को स्पर्श भी नहीं कर सकते थे।

Telnet ने process में असाधारण परिवर्तन लाया। इसका प्रयोग करने का मतलब था कि अब multiple उपयोगकर्ता एक server से एक साथ connect कर सकते हैं।

server से connect करने के लिए, उपयोगकर्ता को केवल terminal के access की आवश्यकता होती है, जो कि उपलब्ध सबसे आसान और सबसे सस्ता computer हो सकता है। इस computer को powerful hardware बनाने की आवश्यकता नहीं थी, केवल एक network connection और text आधारित interface की आवश्यकता थी।

असल में, उनके Telnet client एक command prompt की तरह थे, जो लोग अपने server के साथ काम करने के लिए उपयोग कर सकते थे। इस से productivity में भारी बढ़ोतरी हुई है। तो दोस्तों अब आप को समझ में आ गया होगा कि Telnet में क्या है तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते है और Telnet से जुड़ी और जानकारी को प्राप्त करते है।

Telnet का मतलब क्‍या हैं?

दोस्तों इस टॉपिक में हम Telnet के मतलब के बारे में जानने वाले हैं तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि Telnet का अर्थ  Terminal Network होता है ।

Telnet कैसे काम करता है?

दोस्तों अगर आपके मन में यह ख्याल है कि आखिर Telnet कैसे काम करता है तो आप हमारे इस टॉपिक के साथ बने रहिए क्योंकि हम इस टॉपिक में आपको बताएंगे Telnet किस तरह से काम करता है तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए हम आपके जानकारी के लिए बता दें कि

Telnet मुख्यतः terminal या dumb computer पर उपयोग किया जाता था। इन computers को केवल एक keyboard की आवश्यकता होती है क्योंकि screen पर सब कुछ text के रूप में display होता है। आज के जैसे modern computer और operating system के साथ कोई graphical user interface नहीं होता था।

terminal, अन्य device पर remote log – in करने का तरीका प्रदान करता है, जैसे कि आप इसके सामने बैठे है और इसे किसी अन्य computer की तरह प्रयोग कर रहे है। यह communication Telnet के जरिए किया जाता हैं। आजकल, telnet का उपयोग virtual terminal या terminal emulator से किया जा सकता है, जो कि एक modern computer है जो उसी telnet protocol के साथ communication करता है।

इसका एक उदाहरण Telnet command है, जो कि Windows में कमांड प्रॉम्प्ट पर ही अच्छी तरह सर उपलब्ध है। क्या आपको मालूम था कि Telnet एक command है जो Telnet protocol का उपयोग किसी remote device या उसके बेहतर system के साथ communication कर ने के लिए करता है और यह काफी अच्छा भी होता है।

Telnet command को अन्य operating system जैसे कि लिनक्स, मैक, और  तरह तरह के ढेर सारे यूनिक्स पर भी काफी बेहतर तरह से एक्सीक्यूट किया जा सकता है, दोस्तों ठीक वैसे ही जैसे की आप Windows में करते हैं।

Telnet अन्य TCP/IP protocol जैसे कि HTTP के समान नहीं है, जो आपको एक server से एक फ़ाइल से दूसरे फाइलों को अछे तरह से transfer करने देता है इसके बजाय, Telnet protocol में आप एक server पर आप अपने हिसब से लॉग-इन करते हैं जैसे कि आप Actual users हैं, और आपको सीधा control यानी कि नियंत्रण मिलता हैं और सभी फाइलों और सभी application के अधिकार मिलते हैं।

Telnet एक protocol है जो आपको TCP/IP network (जैसे internet) पर remote users (host) से connect करता है। आपके computer पर Telnet client software का उपयोग काफी अच्छे ढंग से करते हुए, आप Telnet server (यानी केई remote host ) से connection बना सकते हैं।

एक बार जब आपका टेलनेट client remote host के लिए एक connection स्थापित करता है, तो आपका client virtual terminal बन जाता है, जिससे आप अपने computer से remote host के साथ काफी बेहतर ढंग से communication कर सकते हैं। ज्यादातर इसके अन्य मामलों में, आपको remote host में login in करना होगा, जिसके लिए आपके पास उस system पर एक account होना आवश्यक है। कभी-कभी, आप account के बिना guest या public रूप में बिना account के login कर सकते हैं।

तो दोस्तों कुछ इस तरह से टेलनेट काम करता है और यह काफी अच्छे ढंग से काम करता है इसका उपयोग भी कई सारे लोग करते हैं और इसके काम से संतुष्ट भी हैं। तो दोस्तों अब आप को समझ में आ गया होगा कि Telnet कैसे काम करता है तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते है और Telnet से जुड़ी और जानकारी को प्राप्त करते है।

Telnet का उदाहरण क्‍या हैं ?

Telnet Command Usage in Linux/Unix - JournalDev

दोस्तों इस टॉपिक में हम telnet के उदाहरण से आपको रूबरू कराने वाले हैं और आपको बताने वाले हैं तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि telnet के बहुत सारे उदाहरण हैं लेकिन हमने आपको नीचे में कुछ बेस्ट उदाहरण चुन करके बताया है तो आप इन्हें ध्यान से पढ़े और समझे

उदाहरण :-

command line Telnet client Mac OS ( कमांड लाइन टेलनेट क्लाइंट मैकओएस), unics (यूनिक्स),Windows (विंडोज), और लिनक्स के अधिकांश तरह तरह के वर्श़न में बनाये गये हैं।

इन clients का इस्तेमाल करने के लिए, उनके संबंधित command lines (अर्थात्, Mac OS में terminal applications, unics या linux ( लिनक्स में शेल ) , या Windows में डॉस प्रॉम्प्ट) पर जाएं और फिर यह command type करें:

Telnet host port

host को service के address के साथ बदलें, और port कि जगह जिस पर यह service चलती है (जैसे, http के लिए 80) उसका पोर्ट नंबर।

तो दोस्तों कुछ यही telnet के बेहतर उदाहरण थे जिनको हमने step बाई लिख कर के आप को समझाने की कोशिश की है। तो दोस्तों अब आप को समझ में आ गया होगा कि Telnet के उदाहरण तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते है और Telnet से जुड़ी और जानकारी को प्राप्त करते है।

Windows में Telnet Client और Telnet Server क्या हैं ?

दोस्तों अगर आप जानना चाहते हैं कि आखिर Windows में Telnet Client और Telnet Server क्या हैं तो आप हमारे इस टॉपिक के साथ अंत तक बने रहिए क्योंकि हम इस टॉपिक में इसी पर विचार विमर्श करने वाले हैं हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि Windows में, आप दो Telnet related features को add कर सकते हैं जिनको हम ने नीचे में समझया है कि वो क्या है तो आप उसे पढ़े

1) Telnet Server :-

यदि आप इस feature को install करते हैं, तो आप अपने Windows computer को Telnet server के रूप में रन करने के लिए काफी अच्छे तरह सर configure कर पाएंगे।

इसका मतलब यह है कि आपका computer में आने वाले conections को स्वीकार करेगा और दूसरों को इसका इस्तेमाल करने की अनुमति देगा। यदि आपके पास एक public IP address है और Firewall इसे block नहीं कर रहा हैं, तो लगभग पूरे दुनिया में कोई भी Telnet clients का इस्तेमाल कर के आप के computer को remote control कर सकता है।

2) Telnet Client :-

यह Telnet के माध्यम से आप एक command prompt window का इस्तेमाल कर इस प्रकार के  किसी भी तरह के Telnet server पर connect कर सकते हैं और यह connect भी होता है।

तो दोस्तों अब आप को समझ में आ गया होगा कि Windows में Telnet Client और Telnet Server क्या हैं तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते है और Telnet से जुड़ी और जानकारी को प्राप्त करते है।

क्‍या Telnet का उपयोग करना सुरक्षित हैं?

दोस्तों अगर आपके मन में हो ख्याल है कि आखिर Telnet का उपयोग करना सही है या गलत तो आप हमारे इस टॉपिक के साथ अंत तक बने रहिए क्योंकि हम को इस टॉपिक में बताएंगे कि Telnet आपके लिए सही रहेगा या गलत तो चलिए शुरू करते हैं टॉपिक को बिना देरी किए हुए हम आपके जानकारी के लिए बता दें कि यद्यपि Telnet great था,

जब इसका अच्छे से आविष्कार हुआ और उस ने Technology के बेहतर इस्तेमाल में बहुत क्रांतिकारी बदलाव किया, तो भी इस में उसकी भी कुछ अलग अलग खामियां भी हैं उन में से सबसे खराब बात यह है कि यह सुरक्षित नहीं है! telnet बिना किसी encryption के sample text में किसी भी तरह का deta भेजा जाता था और प्राप्त करता है।

इसका मतलब यह साफ  है कि जब भी आप Telnet server से connect होते हैं, तो आपका personal data जैसे कि आपका username और password स्पष्ट text के रूप में transmit किया जाएगा। जो कोई भी, यह जानता है कि किसी network connection के access के लिए किसी application का उपयोग कैसे करना है, वह transmit हो रहे इस data को काफी आसानी से देख सकता हैं।

असल में, वह उपयोगकर्ता केवल एक पागल मनुष्य ही हो सकता हैं, जो किसी भी गंभीर बातों के लिए tenant का इस्तेमाल करने की कोशिश कर रहा है जैसे कि बहुमूल्य और निजी जानकारी को transmitter करना या business server administering करना है।

जब इस protocol का निर्माण यानी कि आविष्कार किया गया था, तब हमारे पास hi band with internet, बहुत सारे hackers, malware creates नहीं थे। इसका उपयोग पहली बार close network वाले संस्थानों द्वारा किया गया था जो Telnet के माध्यम से अपने server पर control access प्रदान कर रहे थे। उस समय, encryption किसी की आवश्यकताओं की लिस्‍ट में नहीं था।

लेकिन आज, Telnet सबसे असुरक्षित protocol है जिसे आप data transmit  करने के लिए उपयोग आप कर सकते हैं। Telnet ज़ीरो file transfer encryption बेहतर तरह से प्रदान करता है, जिसका अर्थ है Telnet पर किए गए सभी data transfer or स्पष्ट text में पास किए जाते हैं।

आपके network traffic की निगरानी करने वाला कोई भी, आपके username और password दोनों को देख सकता हैं, जब आप Telnet server पर login करते हैं।

इन दिनों, यदि एक Telnet server online लाया जाता है और public internet से connect होता है, तो यह बहुत अधिक संभावना है कि कोई भी इसे काफी आसानी से ढूंढ लेगा और इसे हैक करेगा । तथ्य यह है कि Telnet असुरक्षित है और इसका उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। लेकिन average computer उपयोगकर्ता के लिए यह चिंता का विषय नहीं होना चाहिए।

दोस्तों मेरे हिसाब से इसका उपयोग करना बिल्कुल भी ठीक नहीं है अगर आप इसका उपयोग करना चाहते हैं तो एक बार उपयोग करके देख सकते हैं लेकिन मैं इसको उपयोग करने की सलाह नहीं दूंगा।

तो दोस्तों अब आप को समझ में आ गया होगा कि क्‍या Telnet का उपयोग करना सुरक्षित हैं तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते है और Telnet से जुड़ी और जानकारी को प्राप्त करते है।

Computer या Laptop में Window कैसे install करे | How to install Window in computer or laptop in Hindi

क्या telnet अभी भी प्रयोग किया जाता है?

दोस्तों अगर आपके मन में यह ख्याल है कि क्या अभी भी telnet का उपयोग किया जाता है तो हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आज device या system से connect करने के लिए Telnet को शायद ही कभी उपयोग किया जाता है।अधिकांश device, अब web-based interface के जरिए configure और manage किए जा सकते हैं जो Telnet की तुलना में अधिक सुरक्षित और इस्तेमाल के लिए आसान भी हैं।

अब जब आप Telnet के बारे में थोड़ा बहुत जानते हैं और आप यह भी जानते हैं कि यह एक बहुत ही असुरक्षित protocol माना जाता है यह बात मैन आपको ऊपर के टॉपिक में भी बताया है, तो कुछ real life के इस्तेमाल को देखते हैं, जो की अभी भी किए जाते हैं।

पुराने स्कूल के server को access करने के लिए, जो कि remote connection के लिए इस protocol का इस्तेमाल करने पर जोर देते हैं।

कुछ network device जैसे पुराने स्कूल Cisco Routers से अच्छे तरह से connect करने के लिए इसका उपयोग हो सकता हैं। Telnet clint की मदद से आप उसे configure कर सकते हैं।आज भी लोग telnet का इस्तेमाल करते हैं और क्या आपको पता है कि इसका मुख्य कारण फन के लिए ही है। आप full text में फिल्में देख सकते हैं, games खेल सकते हैं

तो दोस्तों कुछ इस तरह से telnet का उपयोग आज भी किया जा रहा है। तो दोस्तों अब आप को समझ में आ गया होगा कि क्या telnet अभी भी प्रयोग किया जाता है तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते है और Telnet से जुड़ी और जानकारी को प्राप्त करते है।

कंप्यूटर से वायरस कैसे निकाला जाता है | How to Remove virus from computer

Windows में Telnet का उपयोग कैसे करें ?

दोस्तों अगर आप जानना चाहते हैं कि आखिर Windows में Telnet का उपयोग कैसे किया जाता है तो आप हमारे इस टॉपिक के साथ बने रहे क्योंकि हम इस टॉपिक में इसी बात पर विचार विमर्श करने वाले हैं तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए हम आपके जानकारी के लिए बता दें कि Telnet किसी अन्य device के साथ communication करने का एक सुरक्षित तरीका नहीं है, फिर भी आपको इसका उपयोग करने के लिए एक या लगभग दो कारण मिल सकते हैं।

लेकिन दोस्तों दुर्भाग्य से, आप केवल एक command prompt window को ओपन कर के Telnet command का इस्तेमाल नहीं कर सकते। Windows में आपको इसे enable करना होगा तब जा के आप इसका इस्तेमाल कर सकते है। हमने आपको नीचे में बताया है कि आप किस तरह से window में Telnet client को कैसे ebable कर सकते है तो चलिए उसे देखते है।

CD क्या हैं और DVD क्या हैं और यह कैसे काम करता है ?

Windows में Telnet client को कैसे enable करें?

Windows 10, Windows8, Windows 7, और Windows विस्टा में, Control Panel में Windows Features से Telnet Client को ऑन करना होगा। Windows Feature option Control Panel के Programs and Features section में पाया जा सकता है। Windows Feature विंडो से, Telnet Client को select करें और फिर इसे enable करने के लिए आपको OK के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।

तो दोस्तों कुछ इस तरह से आप Windows में Telnet का उपयोग कर सकते हैं। तो दोस्तों अब आप को समझ में आ गया होगा कि Windows में Telnet का उपयोग कैसे करें तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते है और Telnet से जुड़ी और जानकारी को प्राप्त करते है।

Telnet की शुरुआत कब हुई ?

दोस्तों अगर आपके मन में यह ख्याल है कि आखिर telnet की शुरुआत कब हुई थी तो आप हमारे इस टॉपिक के साथ अंत तक बने रहे क्योंकि हम इस टॉपिक में आपको बताएंगे कि आखिर telnet की शुरुआत कब हुई थी तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए हम आपके जानकारी के लिए बता दें कि

Telnet एक network virtual terminal protocol को संदर्भित करता है। संक्षिप्त नाम teletype network, terminal network या telecommunication network से आता है, जो इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस स्रोत पर विश्वास करते हैं। इसे दूर के terminal से main form computers को manage करने के लिए remote control के रूप में बनाया गया था।

Telnet ने शोध छात्रों और professor को बड़े Mainframe computer के दिनों में भवन के किसी भी terminal से विश्वविद्यालय के मेनफ्रेम में login करने में सक्षम बनाया। इस remote login ने शोधकर्ताओं को प्रत्येक semester चलने के घंटों की बचत की।

जबकि Telnet modern networking तकनीक की तुलना में फीका है, यह लगभग शाल 1969 में क्रांतिकारी था, और telnet ने शाल 1989 में world wide web यानी कि www के लिए मार्ग प्रशस्त करने में मदद की। तो दोस्तों कुछ इस तरह से ही telnet की शुरुआत की गई थी।

तो दोस्तों अब आप को समझ में आ गया होगा कि telnet की शुरुआत कब हुई तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते है और Telnet से जुड़ी और जानकारी को प्राप्त करते है।

इंटरनेट के फायदे और नुकसान

Telnet और ping में क्या अंतर है?

दोस्तों इस टॉपिक के मदद से हम जाने वाले हैं कि आंखें telnet और ping में क्या क्या अंतर है तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए हम आपके जानकारी के लिए बता दें कि इन दोनों में कुछ खास अंतर नहीं है जो भी अंतर है हम ने नीचे में स्टेप बाई स्टेप करके आप को समझाने की कोशिश की है तो चलिए उसे देख लेते हैं।

ping आपको यह जानने की अनुमति देता है कि internet के माध्यम से कोई machine access करने योग्य है या नहीं। Telnet आप को किसी समस्या के बेहतर स्रोत को काफी अच्छे तरह से निर्धारित करने के लिए mail client या ATP client के सभी अतिरिक्त नियमों के बावजूद server से connection का परीक्षण करने की  अनुमति देता है।

और दोस्तों अगर हम इस मे देखे तो ping और traceroute के बीच मुख्य अंतर यह है कि ping यह बताने के लिए एक त्वरित और आसान उपयोगिता है कि क्या निर्दिष्ट server पहुंच योग्य है और server से data भेजने और प्राप्त करने में कितना समय लगेगा जबकि traceroute server तक पहुंचने के लिए लिया गया सटीक मार्ग ढूंढता है और प्रत्येक चरण (हॉप) द्वारा लिया गया समय होता था ।

तो दोस्तों कुछ यही सामान्य अंतर है जो पिंगा और टेलनेट में होता है

Slow computer की Speed कैसे बढ़ाएं | Computer speed को fast कैसे करें

[ Conclusion, निष्कर्ष ]

दोस्तो आशा करता हूं कि आपको मेरा यह लेख Telnet क्या है और इसका कैसे इस्तेमाल किया जाता है बेहद पसंद आया होगा और आप इस लेकर मदद से वह सभी जानकारी को पूरे विस्तार से समझ चुके होंगे जिसके लिए आप हमारे वेबसाइट पर आए थे।

हमने इस लेख में सरल से सरल भाषा का उपयोग करके आपको टेलीनेट से जुड़ी सभी जानकारी देने की कोशिश की है क्योंकि हमें मालूम है कि कोई सारे लोग ऐसे भी हैं जो जानना चाहते हैं कि आखिर टेलनेट क्या होता है और टेलनेट की शुरुआत कब हुई थी और क्या अभी भी टेलनेट का उपयोग किया जाता है और टेलनेट को किस तरह से window में उपयोग कर सकते हैं टेलनेट किस तरह से उपयोग किया जाता है टेलनेट और पिंग में क्या अंतर है।

इन्हीं सभी सवालों का जवाब देने के लिए हमने इस लेख को लिखा था और इस लेख में स्टेप बाय स्टेप करके हमने टेलिनेट से जुड़ी सभी जानकारी को लिखकर के समझाया है और आप पर मेरा संपूर्ण विश्वास है कि आप सभी मेरे इस लेख को ध्यान से पूरे अंत तक पढ़ चुके होंगे और टेली नेट से जुड़ी सभी जानकारी को प्राप्त कर चुके होंगे।

अगर दोस्तों आपको इस पोस्ट में कहीं भी कोई भी किसी भी तरह को,पढ़ने में या किसी भी चीज में कोई भी दिक्कत हुई होगी तो आप हमारे कमेंट बॉक्स में बेझिझक कुछ भी सवाल पूछ सकते हैं।

हमारी समूह आपकी मैसेज के रिप्लाई जरूर देगी और आप यह भी कमेंट में जरूर बताएं कि यह पोस्ट Telnet क्या है और इसका कैसे इस्तेमाल किया जाता है के बारे में जानकारी आपको कैसा लगा  ताकि हम आपके लिए दूसरे पोस्ट ऐसे ही लाते रहे। तो चलिए दोस्तों इसी जानकारी के साथ हम अब इस लेख को समाप्त करते हैं और अगर आपको हमरा यह पोस्ट को पढ़ने के लिए दिल से धन्यवाद………

Previous articleYGG Gaming NFT Project Complete Review
Next articleसुरक्षा दिवस सप्ताह 2022 निबंध, उद्देश्य, विषय | National Safety and Security Day 2022 Objectives, Theme in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here