Home HEALTH AND BEAUTY ओट्स क्या है? और ओट्स और दलिया में अंतर | What is...

ओट्स क्या है? और ओट्स और दलिया में अंतर | What is Oats in Hindi and Benefits, Uses, difference in Hindi

7
What is Oats in Hindi and Benefits
What is Oats in Hindi and Benefits

दोस्तो आज के इस आर्टिकल में हम ओट्स क्या है? और ओट्स और दलिया में अंतर | What is Oats in Hindi and Benefits, Uses, difference in Hindi के बारे में विस्तार से जानने और समझने वाले है। दोस्तो इसके बारे में अच्छे से जानने के लिए आप कृपया कर के पोस्ट को अंत तक ध्यान से पढ़े तभी आपको पोस्ट अच्छे से समझ मे आएगा।यो चलिये शुरू करते है इस लेख को।

ओट्स क्या हैं ?

दोस्तो आजकल के स्वास्थ्य के प्रति सारे  जागरूक लोगों की बढ़ती संख्या के साथ ही साथ उसी तेजी से  अनाज और बाजरा की खपत में भी काफी वृद्धि हुई है, और एक ऐसा अनाज, जिसने अपने अद्भुत स्वास्थ्य और अपने मजेदार स्वाद और उसके ढेर सारे लाभों के लिए दुनिया भर में प्रमुखता प्राप्त की है, और वह है ‘ओट’। दोस्तो मुझे लगता है कि इस अनाज को किसी परिचय देनी  की आवश्यकता नहीं है, और यह  खनिज,विटामिन, पोषण और फाइबर से पूरा भरा हुआ है।

क्या आपको पता है कि ओट्स को वैज्ञानिक के रूप से इसे एवेनो सैटिवा के रूप में भी काफी जाना जाता है, गाइस जो आगे प्लांट किंगडम और ढेर सारे पौधों में ‘एवेनो’ जीनस से संबंधित है। आपको शायद ही मालूम होगा कि भारत में ओट्स को ‘जई’ के नाम से भी बहुत जगह पे जाना जाता है। भारत में आमतौर पर  जई की खेती बहुत ही व्यापक रूप से हरियाणा और पंजाब में की जाती है, क्या आप जानते है कि ओट्स अनाजों को उगाने के लिए पहले हमारे खेत मे  धान के खेती की आवश्यकता होती है। इसके अलावा, इन पौधों को आमतौर पर जैविक खेती की सभी प्रक्रिया का उपयोग करके इसे अच्छे से  उगाया जाता है।

जई अपने भारी स्वास्थ्य और अनेकों लाभों के लिए स्वास्थ्य के लिए एक बहुत ही बड़ा सनक बन गया है, जो आगे चलकर मानव शरीर के लगभग समुचित कार्य में काफी मदद करता है। क्या आपको पता है कि ओट्स स्वस्थ पौध प्रोटीन और फाइबर का एक बहुत बड़ा स्रोत है, जो हमारे और आपके लिए एक बेहतर विकल्प है, खासकर, यदि आप अपनी गतिहीन जीवन शैली के साथ-साथ अपने खाने की आदतों को एक अच्छी तरह से  बदलना चाहते हैं। और आपके नए खाने में  पोषक तत्वों से भरपूर, यह फाइबर, जिंक, मैग्नीशियम, लगभग काफी पोषण युक्त और एंटीऑक्सिडेंट का एक बहुत बड़ा समृद्ध स्रोत है।

दोस्तो पिछले कुछ वर्षों में भारत की पाक अच्छी संस्कृति में काफी अधिक जागरूकता हुई है और अनाज और बाजरा जैसे जई,अमरनाथ,कसी, रागी  आदि के प्रति झुकाव के साथ एक बहुत ही बेहतर आदर्श बदलाव आया है; इन सभी खाद्य पदार्थों को बेहतर ढंग से अपनी दैनिक दिनचर्या में आप बिना किसी दिक्कत के शामिल करने के कई प्रयोग और नए तरीके हैं। नाश्ते के भोजन से लेकर विदेशी अलग अलग  मिठाइयों तक, यहां तक ​​कि शेफ भी ओट्स को प्रेरित बहुत अच्छा स्वाद का प्रदर्शन कर रहे हैं और बाहर के खाने को और अधिक स्वस्थ बनाने का भी बहुत प्रयास कर रहे हैं।

ओट्स  कितने प्रकार के होते है।

दोस्तो सभी रूपों में ओट्स निर्विवाद रूप से सबसे बेहतरीन पौष्टिक भरे ओट्स नाश्ते में से एक हैं, वे आपके भोजन में  काफी स्वाद, बल्क और अच्छी बनावट जोड़ने के लिए भी बहुत बेहतर हैं। इस विभिन्न प्रकार के ओट्स सभी रूपों में ओट्स निर्विवाद रूप से सबसे पौष्टिक नाश्ते में से एक हैं, वे आपके बेकिंग में स्वाद, बल्क और बनावट जोड़ने के लिए भी बहुत अच्छे हैं। ओट्स कई अलग-अलग प्रकार के जई के उपलब्ध हैं, और आपका गलत प्रकार का ओट्स का चयन आपके खाना और पकाने की काफी आपदा का कारण बन सकता है, इसलिए उनके बीच के अंतर को जानना और समझना बहुत जरूरी के साथ साथ उपयोगी भी है।

ओट्स के के अलग अलग प्रकार क्या हैं  आपको मालूम नही है तो मैं आपको बता दु की ओट्स के लगभग दो मुख्य प्रकार के होते हैं, रोल्ड ओट्स और स्टील-कट ओट्स। वे दोनों एक ही तरह से पकना शुरू करते हैं। सबसे पहले, आपने देखा होगा कि कच्चे जई के अखाद्य पतवार को उनके बीच से हटा दिया जाता है। यह पूरे जई को एक साथ रोगाणु, एंडोस्पर्म और चोकर के साथ  उन्हें छोड़ दिया जाता है। इन बच्चे भागों में विटामिन, स्वस्थ तेल, फाइबर, और एंटीऑक्सिडेंट काफी मात्रा में होते हैं जो ओट्स को आपके लिए बहुत खाने में काफी अच्छा बनाते हैं।

आमतौर पर ओट्स दो प्रकार के होते है

1. रोल्ड ओट्स

आपको रोल्ड ओट्स के बारे में शायद ही मालूम होगा क्योंकि  रोल्ड ओट्स को पूरे ओट ग्रेट्स को एक अच्छे तरह से स्टीम करके स्टील रोलर्स के साथ इन सभी ओट्स को फ्लेक्स में बेहतर ढंग से दबाकर बनाया जाता है। यह ओट्स के बनावट को पूरी तरह से बदलता है, रोल्ड ओट्स खाना पकाने के समय को थोड़ा छोटा करता है और मगर  इसके शेल्फ जीवन में काफी सुधार करता है। सुपरमार्केट में लगभग  तीन तरह के रोल्ड ओट्स उपलब्ध या मिलते हैं: जिसमे से पहला है पारंपरिक ओट्स, और दूसरा है झटपट ओट्स और और रहा बात तीसरा का तो वो है इंस्टेंट ओट्स।

2. स्टील कट ओट्स

दोस्तो क्या आप जानते है कि स्टील-कट ओट्स को थोड़ा सा भी रोल नहीं किया जाता है, बल्कि इस स्टील कट ओट्स को तेज धार वाले स्टील ब्लेड का उपयोग करके इस ओट्स को एक मोटे टुकड़ों में काट दिया जाता है। इससे यह  बिलकुल चावल का आकार जैसा दिखने लगता है। गाइस स्टील-कट ओट्स में अधिक चबाने वाली खाद्य बनावट होती है।

जब दलिया या इसका को खाद्य पदार्थ बनाया जाता है, तो ईस तरह के ओट्स को चबाया जाता है, लगभग यह अखरोट जैसा होता है और इसमें आपको  रोल्ड ओट दलिया के लिए एक अलग तरह से  मलाई होती है। दलिया के अलावा, आप देख सकते है कि इस मे वे स्टॉज, सूप और मीट स्टफिंग और ढेर तरह से आइटम में जोड़ने के लिए बहुत अच्छे हैं। अब आप मुख्य प्रकार के ओट्स के बीच तो अंतर जानते ही है।

ओट्स खाने के सभी स्वास्थ्य लाभ

 दोस्तो हमने आपको ओट्स के बारे में ऊपर बताया है कि ओट्स ने अपने  सभी उच्च आहार  जैसे फाइबर सामग्री, अच्छा पोषण तत्व, फाइटोकेमिकल्स और अत्यधिक पोषण मूल्य के कारण  ढेर सारे लोगो का बहुत अधिक ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया है। आज, वे एंटीकैंसर और हाइपोकोलेस्ट्रोलेमिया जैसे गुणों सहित अलग अलग प्रकार के स्वास्थ्य के अधिक से अधिक लाभों से परिभाषित होते हैं। इस शोध के अनुसार, सीलिएक रोगियों के आहार में  यब उपयोग के लिए दलिया आराम से जोड़ा जा सकता है।

ओट्स आमतौर पर एक थोड़ा बहुत पोषण आधारित खाद्य उत्पाद जैसे की ब्रेड, प्रोबायोटिक पेय, नाश्ता अनाज, बिस्कुट, कुकीज,  फ्लेक्स और शिशु आहार के जैसे ढेर सारे अपने उच्च से उच्च पोषण मूल्य के कारण बहुत लोकप्रियता प्राप्त कर रहे हैं। यहां  कई सारे साबुत अनाज और मूल्य वर्धित उत्पादों के रूप में जई के लगभग सारे स्वास्थ्य लाभों का अवलोकन हम ने आपके लिए बताया है, साथ ही जई प्रसंस्करण और कार्यात्मक गुणों पर इसके प्रभाव के बारे में सम्पूर्ण जानकारी विस्तार से दी गई है।

यहां ओट्स के कुछ स्वास्थ्य लाभों की सूची दी गई है आप ध्यान से पढ़े :-

1. ओट्स में पौष्टिक आहार कूट कूट के भरे  होते हैं

दोस्तो आपको मालूम न ही तो मैं आपको बता दु की ओट्स में एक  तरह का संतुलित पोषक तत्व होता है। जब आप ओट्स का सेवन करेंगे तो आप पाएंगे कि ओट्स में कार्बोहाइड्रेट और फाइबर इनकी तरह कई चीज़ों की मात्रा काफी अधिक होती है, और  इसमे शक्तिशाली फाइबर बीटा-ग्लुकन भी  कफ अधिक मात्रा में शामिल है। वे कई अन्य अनाजों की तुलना में फैट और  प्रोटीन में भी थोड़ा बहुत अधिक होते हैं। जई विटामिन, एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन, खनिज, संयंत्र यौगिकों में काफी उच्च मात्रा में होते हैं। तो गाइस इसका मतलब है कि जई का ओट्स सबसे अधिक पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थों में से एक बहुत ही अच्छा स्रोत है ।

2. ओट्स में एंटीऑक्सीडेंट पूर्ण रूप से भरपूर होते हैं

गाइस साबुत ओट्स  पॉलीफेनोल्स और एंटीऑक्सिडेंट से पूर  भरपूर होते हैं, जो फायदेमंद पौधे के इसमे बहुत यौगिक होते हैं।  इसमे सबसे उल्लेखनीय एंटीऑक्सिडेंट एवेनथ्रामाइड्स पाया जाता हैं, जो आप लगभग इसे पूरी तरह से जई में आराम से पा सकते हैं क्योकि यह लगभग जइ जैसा ही होता है । ओट्स आपके शरीर मे एवेनथ्रामाइड्स नाइट्रिक ऑक्साइड के उत्पादन को थोड़ा बहुत बढ़ाकर  आपके हृदय रोग के जोखिम को काफी हद तक कम कर सकता हैं।

दोस्तो यह गैस अणु रक्त वाहिकाओं के फैलाव करने  में काफी सहायता करता है, जिसके मदद से आप रक्त प्रवाह में काफी वृद्धि होती है। इसके अलावा, इसमे आप एवेनथ्रामाइड्स में एंटी-खुजली और एंटी-इंफ्लेमेटरी के गुण  भी होते हैं। आप ओट्स की उच्च गुडवक्ता वाले सांद्रता में फेरुलिक एसिड भी थोड़ा बहुत पा सकते हैं। यह एक अन्य प्रकार का एंटीऑक्सीडेंट हित  है।

3. ओट्स में पाय जाने वाले घुलनशील फाइबर एक शक्तिशाली होता है

क्या आपको मालूम है कि ओट्स में बीटा-ग्लूकन , नाम का एक  घुलनशील फाइबर भी पाया जाता है जो काफी उच्च फाइबर होता है। आंत में, जब आप इसका सेवन करते है तो यह बीटा-ग्लूकन आंशिक पूर्ण रूप से पानी में घुल जाता है और एक गाढ़ा, जेल जैसा मिल कर एक प्रकार का घोल बनाता है। कम LDL और कुल अद्धिक कोलेस्ट्रॉल के स्तर, हमारे शरीर के कम रक्त शर्करा और परिपूर्णता की भावना में वृद्धि, इंसुलिन प्रतिक्रिया, और पाचन तंत्र में काम आने वाले ढेर सारे अच्छे बैक्टीरिया की वृद्धि में  बीटा-ग्लूकेन फाइबर के सभी स्वास्थ्य लाभ इस ओट्स में आसानी से पाए जाते हैं।

4. त्वचा के लिए ओट्स के ढेर सारे फायदे

अगर आप अपने कुछ लोशन या फेस क्रीम के टैग पर काफी जयदा ध्यान देते है , तो आपको ओटमील से काफी मदद मिलने की पूरी संभावना है। किसी ने बहुत दिन पहले इतिहास में कभी न कभी किसी तरह से  सूखी, खुजली वाली, काफी अत्यधिक  चिड़चिड़ी वाले त्वचा के लिए जई के लाभों की बहुत सारे खोज की है। जई का स्टार्च आपके शरीर मे एक अवरोध बनाता है जो त्वचा में हमेशा  नमी बरकरार  रखने की अनुमति देता है, जबकि जई की खुरदरी रेशेदार भूसी एक कोमल एक्सफोलिएंट के रूप में कफ बेहतरीन तरीके से कार्य करती है।

ओट्स आपकी शरीर की त्वचा में कचड़े अतिरिक्त तेल सोख लेते हैं और मुंहासों के इलाज में बहुत ज्यादा मदद करते हैं ओट्स के एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण शुष्क त्वचा का इलाज  काफी बेहतरीन तरीका से करते हैं और आपके त्वचा के मृत कोशिकाओं को हटाते हैं ओट्स आपके त्वचा की गंदगी और चिपचिपा तेल को हटाकर त्वचा को अच्छे तरह से एक्सफोलिएट करके प्राकृतिक क्लींजर का काम आपके शरीर मे करते हैं

5. वजन घटाने के लिए ओट्स के फायदे

ओट्स आपको आपके भरा हुआ महसूस कराकर आपके वजन घटाने में काफी हद तक मदद कर सकता है।  जब आपका पेट के खाली होने पर यह आपको धीमा करके और आपके शरीर के तृप्ति हार्मोन PYY के उत्पादन को अच्छे से बढ़ाकर इसे आपके शरीर के लिए पूरा करता है। दलिया जैसा आपको भरा हुआ महसूस कराता है और मल त्याग को  भी नियंत्रित करने में यह बहुत मदद करता है। गाइस आपके  शरीर के वजन को अच्छे से नियंत्रित करने में मदद करने के लिए ओट्स जैसे किसी साबुत अनाज वाले आहार को भी आपके अध्ययनों में दिखाया गया है। साबुत अनाज की खपत बॉडी मास इंडेक्स से विपरीत बेहतरीन रूप से संबंधित है।

6. ओट्स के लाभ छोटे छोटे शिशुओं के लिए

 हमने आपको ऊपर ही समझया है कि ओट्स में मैग्नीशियम, आयरन फाइबर,  में उच्च पदार्थ होते हैं, और जस्ता भी होता है । दोस्तो जैसे-जैसे आपका बच्चा बढ़ता है, आमतौर पर उसे अधिक पोषक तत्वों और विटामिन की आवश्यकता बहुत  हिती है। चूंकि ओट्स खाने में काफी नरम होते हैं लेकिन संरचना को बनाए रखने के लिए , छोटे बच्चों को ओटमील बनावट उनको पेश करने का एक शानदार तरीका है।

क्या आपको पता है कि जई के उच्च पोषण संबंधी प्रोफाइल से बच्चे के काफी तेजी से विकास होगा। और अन्य लाभों में भी ओट्स शामिल हैं: ओट्स आपके बच्चे के पाचन तंत्र में भी आसान होते हैं ओट्स किसी भी तरह के  गैस को रोकने के दौरान आपके बच्चे के लिए अच्छे तरह से पूर्णता और स्वस्थ भूख को थोड़ा बहुत बढ़ावा देने में काफी मदद करता हैं ओट्स कब्ज को रोकने में भी बहुत मदद करने के लिए यह प्राकृतिक रेचक के रूप में भी कार्य करते हैं।

ओट्स और दलिया में अंतर

  •  दोस्तो ओट्स और दलिया में काफी अंतर नही होता है ये बिल्कुल एक ही जैसा होते है इनमें लगभग कैलोरी एक जैसी ही पाई जाती है बस फाइबर ओट्स थोड़ा ज्यादा होता है ।
  •  गाइस ओट्स आपके खाना को पचाने में आसान आसान होता है ये आप इसे अच्छे से समझ सकते है की इसे  एक गिलास नॉर्मल पानी में अगर आप थोड़ी देर  भी ओट्स को भिगोकर रखते है तो ओट्स अपना आकार में काफी बदलाव और ओट्स में  स्मूथनेस आ जाती हैं।
  • और उसी तरह से आप अगर दलिया में पानी डालकर रखते है तो उसमे ज्यादा कुछ  फर्क नही पड़ता है उसको आपको पकाना ही पड़ता हैं।
  •  दोस्तो अगर आप जिम जाते है तो जिम जाने से पहले अगर आप कुछ कैलोरी या कार्बोहाइड्रेट लेना चाहते है तो  लगभग एक गिलास में पानी में ओट्स डालकर आप ओट्स को पी सकते है जो की आसानी से आपके पेट मे पच जाते है।
  • और ऐसा हम दलिया के साथ बिलकुल नही कर सकते हैं।

Conclusion (निष्कर्ष )

दोस्तों आशा करता हूं कि आपको मेरा यह लेख ओट्स क्या है? और ओट्स और दलिया में अंतर | What is Oats in Hindi and Benefits, Uses, difference in Hindi आपको बेहद पसंद आया होगा और आप इस लेख के माध्यम से ओट्स के बारे में पूरे तरह से जान चुके होंगे कि इसका क्या फायदा होता है।

अन्य पढ़ें –

7 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version