नमस्कार दोस्तों कैसे हैं आप लोग आशा करता हूं आप बिल्कुल ठीक होंगे आपका हार्दिक स्वागत है हमारे इस लेख में आज के इस लेख में मदद से हम Chehre Ke Jhuriyaan Hatane Ke Gharelu upay | झुर्रियां क्यो होता है के बारे में संपूर्ण जानकारी पूरे विस्तार से प्राप्त करने वाले हैं और इसके बारे में जानने भी वाले हैं।

आपको तो मालूम ही होगा कि यह आजकल के इस युग में कौन अपने चेहरे पर ध्यान नहीं देता है और कौन है जो अपने आप को आकर्षक दिखाना नहीं चाहता है। लगभग मेरे हिसाब से सभी व्यक्ति अपने आप को सुंदर और आकर्षक दिखाना चाहते हैं ।

मगर कुछ कारण की वजह से उनका यह सपना पूरा नहीं होता है या यह काम को वह नहीं कर पाते हैं क्योंकि आजकल के प्रदूषण और केमिकल से बनने वाली साबुन फेस वॉश के कारण से उन के उन के अच्छे चेहरे भी अब खराब हो जा रहे हैं और उनके चेहरे पर काले दाग धब्बे तरह-तरह के Jhuriyaan भी हो जा रहे हैं। इस कारण से उनकी प्राकृतिक सौंदर्य भी छुप जा रही है। 

और यह सब देख कर के लगभग सभी पुरुष और महिलाओं का यह सवाल रहता है कि आखिर यह Jhuriyaan होती क्या है और यह किसके कारण से होती है और इस तरह के चहरे पर  होने वाले झुर्रियां का घरेलू उपाय को अपना कर के इसे हम ठीक कर सकते है या नही। और इस Jhuriyaan का घरेलू उपाय क्या है और किस तरह से इस झुर्रियां को हम ठीक कर सकते हैं।

 तो इन सभी सवालों से जुड़ी जानकारी देने के लिए हमने इस लेख को स्टेप बाय स्टेप करके लिखा है और आप को समझाने की कोशिश भी कि है  आखिर किस तरह से आप अपने चेहरे पर होने वाले झुर्रियां को हटा सकते हैं अगर आपको सच में अपने चेहरे की झुर्रियां को हटाना है तो आप से मेरा यह अनुरोध है कि मेरे इस लेख को ध्यान से पूरे अंत तक पढ़े तभी आपको मेरा यह लेख अच्छे से समझ में आएगा तो चलिए शुरू करते हैं इस लेख को बिना देरी किए हुए।

Skin Pigmentation dur karne ke Gharelu Upay | 8+ Best Tips

Jhuriyaan क्या है और यह कैसे बनता है?

How do wrinkles affect happiness? - Chatelaine

दोस्तों अगर आपके मन में यह ख्याल है कि आखिर झुर्रियाँ क्या होती है और यह कैसे हमारे चेहरे पे आती है तो आप हमारे इस टॉपिक के साथ अब तक बने रहे क्योंकि हम इसके बारे में विचार विमर्श करने वाले हैं तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि झुर्रियाँ हमारे चेहरे के त्वचा में पड़ने वाली लकीरें या सिलवटें हैं, जो खासतौर पर तब होती हैं जब हमारी उम्र के साथ चेहरे के त्वचा धीरे धीरे अपना नमी खो देती है। क्या आपको मालुम है कि मानव की त्वचा में तीन अलग-अलग परतें होती हैं ।

जैसे कि सबसे पहली है बाहरी परत को एपिडर्मिस (Epidermis) भी कहा जाता है। और जो परत त्वाचे के दूसरे नम्बर पर आता है उस को डर्मिस (Dermis) के नाम से जाना जाता है। और दोस्तों जो सबसे निचली और आखरी परत है उसको आमतौर पर सबक्युटेनियस लेयर (subcutaneous) कहते हैं। तो दोस्तों कुछ इस प्रकार से हमारे त्वाचे के परत रहते है।

क्या आपको मालूम है कि हर बार जब आप चेहरे के त्वाचे के भाव को (अभिव्यक्ति) बदलते हैं और चेहरे की मांसपेशियों को किसी भी कारण से हिलाते हैं, तो इस से हमारे चेहरे की त्वाचे और मांसपेशियों में एक खास तरह का सिलवटें पड़ती हैं। जो आमतौर पर युवा लोगों की त्वचा में पर्याप्त मात्रा में नमी होती है और उसी के साथ ही कोलेजन  (collagen) और इलास्टिन (elastin) नाम के तकरीबन दो प्रोटीन (protein) पाए जाते हैं।

हम आपके जानकारी के लिए बता दे कि collagen हमारे शरीर के  त्वचा की संरचना को अच्छी तरह से बनाए रखता है और उसी तरह से इलास्टिन elastin हमारे शरीर के त्वचा को हल्का फुल्का लचीलापन प्रदान करता है। नमी और ये दोनों प्रोटीन collagen और elastin हमारे शरीर के त्वचा की सिलवटों को काफी जल्दी ही ठीक कर देते हैं, जिस से हमारी शरीर की त्वचा फिर से चिकनी व कोमल और प्राकृतिक हो जाती है।

हालांकि, हम आपको बता दे कि उम्र के साथ आपकी त्वचा इन दोनों प्रोटीनों के प्राकृतिक भंडार को धीरे धीरे खोना शुरू कर देती है और फिर कुछ शालो बाद  परिणामस्वरूप, ये सिलवटें अब पूरी तरह से ठीक नहीं हो पाती हैं। जैसा कि आपकी शरीर की समान मांसपेशियों का अधिक इस्तेमाल करते हैं, ये रेखाएं अब हमारे स्किन पर धीरे-धीरे गहरी होने लगती हैं और कुछ समय बाद झुर्रियों के रूप में दिखाई देती हैं।

इस के अतिरिक्त, आपकी त्वाचे के नीचे की परत (चमड़े की सतह के बिलकुल ठीक नीचे) में अब धीरे धीरे वसा जमा होती है, जो आपकी त्वचा को पहले के अनुसार धीरे धीरे मोटा रखती है।

ये वसा का जमाव उम्र के साथ ही धीरे धीरे बहुत कम हो जाते हैं और फिर हमारी त्वचा गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव के वजह से अंदर की तरफ काफी धंस जाती है। तो दोस्तों यही एक दिन झुर्रियां की आकार ले लेती है और कुछ इस तरह से हमारे चेहरे के ऊपर

झुर्रियां हो जाती है तो चलिए दोस्तों अब अगले टॉपिक की ओर बढ़ते है और झुर्रियां से जुड़ी कुछ नए जानकारी को प्राप्त कर लेते है।

Chehre Ke Dark Spots Hatane ke Gharelu Upay| चेहरा साफ करने का तरीका (2022)

 झुर्रियों के कारण – Causes of wrinkles in Hindi

दोस्तों इस टॉपिक के मदद से हम जाने वाले हैं कि झुर्रियाँ के कारण क्या होती है तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए

झुर्रियां क्यों होती हैं?

इस टॉपिक में हम आपको बताएंगे कि आखिर झुर्रियाँ क्यों होती है हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि झुर्रियाँ के होने के कई सारे कारण हो सकते हैं लेकिन झुर्रियाँ एक बड़े पैमाने पर एक प्राकृतिक प्रक्रिया ही जो समय के साथ साथ हमारे शरीर के त्वाचे पर होता है। हालांकि, आमतौर पर ऐसे कई वजह हैं जिन के कारण यह प्रक्रिया लगभग सभी मे सामान्य रूप से पहले होने लगती है।

आपके मन मे यह सवाल जरूर होगा कि झुर्रियां कब और कैसे होंगी, तो आपको यह भी जातीयता और त्वचा के रंग पर पूरे तरह से निर्भर करता है। तकरीबन 2016 में जर्नल ऑफ क्लिनिकल एंड एस्थेटिक डर्मेटोलॉजी (Journal of clinical and aesthetic dermatology) में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार से पता चलता है कि एशियाई,

हिस्पैनिक और अफ्रीकी-अमेरिकी मूल के लोगों या सदस्यों की आमतौर पर सिर्फ उन के चेहरे की संरचनाएं ही अलग नहीं होती हैं, बल्कि इन में बहुत अधिक मात्रा में एपिडर्मल मेलानिन (epidermal Melanin) होता है और जैसे कि हमने ऊपर के टॉपिक में बताया कि डर्मिस (dermis) की परत भी मोटी होती है।

ये जातीय अंतर सिर्फ हमारे चेहरे के त्वचा में रंजकता होने या ना होने के समस्याओं को ही प्रभावित नहीं करते हैं, बल्कि इस से हमारे चेहरे की रेखाएं व झुर्रियां पूर्ण तरह से कम नजर आती हैं। इन जातीय अंतरों के बावजूद, भी हमारे त्वाचे पर झुर्रियाँ उभरने के कुछ सामान्य तरह के कारण भी हो सकते हैं जिन के बारे में हमने स्टेप बाई स्टेप कर ले नीचे बताया  है तो आप उन्हें ध्यान के पढ़े।

Chehre se acne hatane ke Gharelu Upay | चेहरे से कील मुंहासे हटाने के अचूक घरेलू उपाय (2022)

कारण 1. बढ़ती हुई उम्र

दोस्तों क्या आपको मालूम है कि जब चेहरे पर झुर्रियां होने के कारणों के बारे में बात करते हैं तो सबसे पहले लोग बढ़ती हुई उम्र की ही दोष देते हैं क्योंकि इसी के वजह से यह झुर्रियां हमारे चेहरे पर हो जाती है। जैसे कि हमने आपको ऊपर के टॉपिक में भी बताया था कि एजिंग यानी कि बढ़ती हुई उम्र ही हमारे त्वाचे पर होने वाले झुर्रियों का एकमात्र कारण है, जो पूरी तरह से प्राकृतिक यानी कि natural है।

जैसा कि ऊपर के टॉपिक में हमने आपको पहले ही बताया है की, त्वचा की डर्मिस (Dermis) परत इलास्टिन (elastin) और कोलेजन (collagen) से बनी होती है, जो हमारे शरीर के त्वचा को संरचना और लचीलपन प्रदान करती है।

जैसे-जैसे आपकी  उम्र समय के हिसाब से बढ़ती है ठीक उसी तरह से, हमारे शरीर की त्वचा की कोशिकाएँ यानी कि (cell) भी धीरे-धीरे अधिक संख्या में विभाजित होने लगती हैं और कोलेजन (collagen) इलास्टिन (elastin) का नेटवर्क यानी कि जुड़ाव धीरे धीरे ढीला होकर के खुलने लगता है।

यह हमारे शरीर के त्वचा की सतह पर लकीरें और गड्ढे भी धीरे धीरे पैदा करता है, जो आसानी से कुछ समय बाद से झुर्रियों में परिवर्तित हो जाते हैं। इसी तरह से हमारे शरीर की त्वचा की अन्य प्राकृतिक प्रक्रियाएं भी हमारे बढ़ते हुवे उम्र के साथ धीरे धीरे प्रभावित हो जाती हैं, जैसे हमारे शरीर के त्वचा की नमी बनाए रखना,  आवश्यक वसीय अम्लों को बनाए रखना, तेल का स्राव,  और क्षति को दुबारा से ठीक करना आदि बहुत से।

ये सभी कारक उम्र बढ़ने के साथ ही साथ झुर्रियों के प्राकृतिक विकास में काफी ज्यादा योगदान करते हैं।तो दोस्तों आप भी जान चुके होंगे कि यह एक बहुत बड़ा कारण है जिसके वजह से हमारे चेहरे पर झुर्रियां होती हैं।

कारण 2. सूर्य की हानिकारक किरणे

दोस्तों क्या आपको मालूम है कि सूर्य की हानिकारक किरणों के वजह से भी हमारे चेहरे पर झुर्रियां हो सकती हैं। तो चलिए इस टॉपिक में हम इसके बारे में पूरे विस्तार से समझते हैं हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि सूरज के संपर्क में, काफी ज्यादा होने से सूर्य की पराबैंगनी विकिरणों के हमारे शरीर के त्वाचे में आने पर सनबर्न (sunburn) भी हो सकता है और हमारी शरीर की त्वचा बूढ़ी जैसे  लगने लगती है।

दोस्तों क्या आपको मालूम है कि इसे फोटोएजिंग (photoanjing) के रूप में भी जाना जाता है। हम आपके जानकारी के लिए बता दे कि फोटोएजिंग (photoanjing) तब होती है जब सूर्य की पराबैंगनी किरणें हमारी शरीर की त्वचा में कोलेजन  फाइबर (collagen, fibre) को धीरे धीरे तोड़ देती हैं या फिर उन के कारण इलास्टिन elastin का असामान्य रूप से उत्पादन होने लगता है।

त्वचा की कोशिकाएँ मेटालोप्रोटीनेज़ metalloproteinage एक एंजाइम  enzyme भी बनाती हैं, जो कोलेजन collagen उत्पादन में सहायक होता है। अल्ट्रावॉयलेट ultraviolet किरणें मेटालोप्रोटीनेज़ metalloproteinage उत्पादन की इस प्रक्रिया को पूरी तरह से प्रभावित कर देती हैं और कोलेजन फाइबर (collagen, fibre) को नुकसान पहुंचा सकती हैं, जिसके परिणामस्वरूप कोलेजन फाइबर अव्यवस्थित होने लगते हैं।

कोलेजन फाइबर (collagen, fibre) के अव्यवस्थित होने की समस्या को “सोलर इलास्टोसिस” (solar elastosis) के नाम से जाना जाता है।

अगर लंबे समय से सूर्य की पराबैंगनी parabagni किरणों के संपर्क में रहने के कारण से बार-बार सोलर इलास्टोसिस (solar elastosis) होता है, तो झुर्रियां भी हमारे चेहरे पर दिखाई देने लगती हैं। तो दोस्तों अब आप जान चुके होंगे कि सूर्य की खतरनाक किरणों के वजह से भी हमारे  शरीर की त्वचा पर झुर्रियां हो सकती है। तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते हैं और हमारे चेहरे पर झुरिया होने के नए कारण के बारे में जानते हैं।

चेहरा साफ करने वाले 12 सबसे अच्छे Face Wash| Best Face wash

कारण 3. मसल कॉन्ट्रैक्शंस

दोस्तों क्या आपको मालूम है कि हमारे शरीर के त्वचा पर झुर्रियां पड़ने का एक बड़ा कारण मसल कॉन्ट्रक्शस भी है क्योंकि इसके वजह से भी हमारे शरीर के त्वचा पर झुर्रियां पड़ सकती है हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जब भी हम अपनी मांसपेशियों को किसी कारण से हिलाते-ढुलाते हैं (विशेष रूप से चेहरे वाली भाग), पर तो इसके कारण हमारी चेहरे के भाग वाले मांसपेशियां थोड़ी बहुत संकुचित होने लगती हैं।

अब आपके मन मे यह ख्याल जरूर आया होगा कि संकुचित का अर्थ क्या होता है तो हम आपके जानकारी के लिए बता दे कि मांसपेशियों के संकुचित होने के परिणामस्वरूप हमारी शरीर की त्वचा में भी संकुचिन यानी कि सिकुड़न की तरह होने लगता है।

दोस्तों क्या आपको मालूम है कि चेहरे पर होने वाले संकुचन को “छोटी से छोटी मांसपेशियों का संकुचन” भी कहा जाता है जिस के कारण हमारे माथे, या भौहों और आंखों के  आस-पास ही लकीरें की तरह निसान आने लगती हैं।

माइक्रो- micro और मैक्रो-एक्सप्रेशंस micro expressions जैसे मुस्कुराना, तेवर दिखाना, आंखें सिकोड़ कर देखना और यहां तक कि पलक झपकना भी थोड़े समय के साथ-साथ झुर्रियां पैदा करने वाला एक प्रमुख कारण बन सकता है।

गुरुत्वाकर्षण भी इन भावों के प्रभाव और उनसे होने वाले परिणामों को गंभीर बनाने का काम करता है।तो दोस्तों इसके कारण से भी हमारे शरीर की त्वचा पर झुर्रियां आ सकती हैं। तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते हैं और हमारे चेहरे पर झुरिया होने के नए कारण के बारे में जानते हैं।

आम के फायदे और नुकसान | Mango Benefits and Side Effects in Hindi (2022)

कारण 4. धूम्रपान करना

दोस्तों आपको जानकर के हैरानी होगी कि धूम्रपान करने से यानी कि सिगरेट पीने से भी आपके चेहरे पर झुर्रियां हो सकती है तो चलिए इस टॉपिक में हम इसी पर विचार विमर्श करेंगे तो हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हमारी शरीर की त्वचा लगा तार धीरे धीरे लुप्त या क्षतिग्रस्त ऊतकों यानी कि (tissues) को बदलती रहती है, क्या आपको मालूम है कि ईसे “स्किन रिजनरेशन”  skin regeneration भी कहा जाता है।

skin regeneration को पूरा होने में तकरीबन 27 से 28 दिनों तक का समय लगता है और इस प्रक्रिया में कोलेजन (collagen) खास तरह का महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

क्या आपको मालूम है कि अध्ययन बताते हैं कि धूम्रपान की लत नए कोलेजन (collagen) उत्पादन में एक उल्लेखनीय कमी का कारण बनती है, जिस से पुनर्जनन (रिजनरेशन) regeneration प्रक्रिया और झुर्रियों के विकास में बहुत कमी आती है।

शोध से यह भी पता चलता है कि निकोटीन रक्त वाहिकाओं को संकीर्ण बना सकता है, जिस कारण त्वचा कोशिकाओं यानी कि (cells) को ऑक्सीजन (oxygen) और पोषक तत्व पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल पाते हैं।

क्या आपको मालूम है कि सिगरेट में मौजूद अन्य रसायन भी त्वचा कोशिकाओं यानी कि (cells) को नुकसान पहुंचा सकते हैं और उन की लोच को प्रभावित कर सकते हैं। धूम्रपान करने से लोगों को अपने होंठ बार-बार चाटने या सिकोड़ने या की आदत हो जाती है, जो मुंह और होठ के आस पास की झुर्रियां या लकीरें बनने का वजह बनती हैं।

तो दोस्तों कुछ इस तरह से सिगरेट पीने पर हमारे शरीर के चेहरे पर झुर्रियां बन जाती है जो कि आगे जाकर के बहुत ही खराब दिखती है और हमें बुड्ढा जैसी शक्ल लेकर के घूमना पड़ता है तो दोस्तों इसे बचाव करने के लिए आपसे मेरा यही सलाह रहेगा कि आप धूम्रपान का उपयोग बहुत ही कम करें कोई अपनी आदत को तो एक बाइक छोड़ तो नहीं सकता मगर बदल जरूर सकता है।

तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते हैं और हमारे चेहरे पर झुरिया होने के नए कारण के बारे में जानते हैं।

ग्रीन टी अर्थात हरी चाय के फ़ायदे व नुकसान | Green Tea Benefits and Side Effect in hindi (2022)

कारण 5. वायु प्रदूषण

दोस्तों आपको जानकर के हैरानी होगा कि हवा में मौजूद खराब प्रदूषण के वजह से भी हमारे चेहरे पर झुर्रियां हो सकती है तो इस टॉपिक में हम इसी पर विचार विमर्श करेंगे तो चलिए शुरू करते हैं उन सभी को बिना देरी किए हुए हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ग्राउंड-लेवल ओजोन परत ozone layer (O3) या सूक्ष्म कणों जैसे प्रदूषकों के संबंध में आना ऑक्सीकरण तनाव यानी कि ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस oxidative stress का वजह भी बन सकता है।

“फ्रंटियर्स इन फार्मास्युटिकल्स” frontiers in pharmaceuticals पत्रिका में प्रकाशित को पूरे तरह से शोध के अनुसार, महीना जुलाई वर्ष 2019 में, ” O3 भी हमारे शरीर के त्वचा में एंजाइमैटिक (enzyme matic) और गैर-एंजाइम एंटीऑक्सिडेंट (enzyme antioxidant) लगभग दोनों के भंडार को अच्छी तरह से कम करता है और विटामिन सी  Vitamin C और विटामिन ई  vitamin E के स्तर को अच्छी तरह से कम करता है।”

क्या आपको मालूम है कि इसी शोध में यह भी कहा गया है कि O3 यानी कि ozone layer के शुष्म किरणों के संपर्क में आने से हमारे शरीर में सरट्यूइन 3 नामक किसी खास तरह का प्रोटीन (protein) का स्तर धीरे धीरे घट जाता है और फिर फ्री रेडिकल्स (free radicals) की मात्रा भी खत्म करने में मदद करता है। फ्री रेडिकल्स (free radicals) हमारे शरीर की कोशिकाओं यानी कि cells को नुकसान भी पहुंचा सकते हैं और स्किन एजिंग (skin anjing)  का कारण भी बनते हैं।

तो दोस्तों कुछ इस तरह से हवा में मौजूद खराब प्रदूषण हमारे शरीर के चेहरे या त्वचा पर झुर्रियां बनने के कारण भी हो सकते हैं। तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते हैं और हमारे चेहरे पर झुरिया होने के नए कारण के बारे में जानते हैं।

हल्दी के गुण फायदे एवम उपयोग और नुकसान | Turmeric Health Benefits In Hindi (2022)

कारण 6. पानी की कमी

दोस्तों क्या आपको मालूम है कि हमारे शरीर में पानी की कमी के वजह से भी हमारे त्वचा पर झुर्रियां आने के कारण हो सकते हैं हम इस टॉपिक में इसी पर विचार विमर्श करेंगे तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं पीने से निर्जली का करण भी हो सकता है,

जिस से हमारी शरीर की त्वचा पर महीन महीन रेखाएं जैसे कुछ दिखाई दे सकती हैं। निर्जली करण से भी शरीर का त्वचा पतली व हल्की रुखी दिखाई देने लग जाती है और साथ ही चेहरे पर झुर्रियां की लकीरें भी बनने लगती हैं।

यह शरीर की त्वचा पर नमी पर पकड़ रखने की त्वचा की क्षमता को भी धीरे धीरे कर के प्रभावित करता है, जिस में हमारी शरीर की त्वचा में गुदगुदापन धीरे धीरे कम हो जाता है और व अंदर की तरफ चेहरा धंस जाती है।

इस लिए यह बहुत ही महत्वपूर्ण कारण है कि आप झुर्रियों को रोकने के लिए पर्याप्त पानी पिएं। तो दोस्तों अब आप जान चुके होंगे कि हमें पानी न पीने की खामयाजा इतना भुगतना पड़ेगा क्योंकि अगर आप ज्यादा मात्रा में पानी नहीं पिएंगे तो आपके शरीर के त्वचा पर झुर्रियां भी हो सकती है। तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते हैं और हमारे चेहरे पर झुरिया होने के नए कारण के बारे में जानते हैं।

संतरे के फायदे और नुकसान | Orange Health Benefits In Hindi (2022)

झुर्रियों का इलाज  (Treatment of wrinkles in Hindi)

दोस्तों इस टॉपिक के मदद से हम झुर्रियों के इलाज से जुडी कुछ जानकारी प्राप्त करने वाले हैं क्योंकि हमने ऊपर के टॉपिक में जाना की झुर्रियां क्या है और झुरिया किन किन कारणों से होती है ।

तो आपके मन में यह ख्याल जरूर आया होगा कि आखिर किस तरह से हम अपने झुर्रियों को ठीक कर सकते हैं तो हमने नीचे के टॉपिक में स्टेप बाई स्टेप करके आपको समझाने की कोशिश की है कि आप किस तरह से अपने चेहरे पर होने वाली झुर्रियां को ठीक कर सकती हैं तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए।

झुर्रियां कैसे ठीक करें?

यदि आपको अपने चेहरे पर झुर्रियां हो गई है और आप इन से ठीक करने का तरीका जानना चाहते हैं, तो आपको शरीर के त्वचा के विशेषज्ञ (डर्मेटोलॉजिस्ट) dermatologist से बात कर लेना ही आप के लिए एक अच्छा विकल्प है।

डॉक्टर की पर्ची के बिना मिलने वाली (ओवर-द-काउंटर) over the counter दवाओं का उपयोग करना आपकी त्वचा को लाभ पहुंचाने से अधिक नुकसान और क्षतिग्रस्त भी कर सकते हैं। इन से होने वाला नुकसान आपके शरीर की त्वचा पर थोड़े या लंबे समय तक भी रह सकता है।

दोस्तों दुनिया भर में झुर्रियों के लिए कई प्रकार के अलग अलग उपचार भी उपलब्ध हैं, जो आपकि शरीर की त्वचा को विशेषज्ञ सुरक्षित उपयोग के लिए सुझा सकते हैं। ये आप की लगभग सभी व्यक्तिगत जरूरतों के आधार पर महंगे या थोड़े बहुत आक्रामक भी हो सकते हैं। निम्नलिखित तरह के झुर्रियों के लिए सबसे लोकप्रिय उपचारों में से कुछ हैं। जिनको हमने नीचे में स्टेप बाई स्टेप कर के लिखा है।

सेब खाने के फायदे और नुकसान | Apple health benefits and Side Effects in Hindi

झुर्रियों के लिए दवा – Medications for wrinkles in HIndi

दोस्तों क्या आपको मालूम है कि झुर्रियों के लिए हमारे त्वचा पर लगाई जाने वाली रेटिनोइड्स क्रीम retinoids cream जिन में विटामिन ए  (vitamin A) भी होता है, वे  रंजकता, झुर्रियों, और त्वचा के खुरदरेपन को धीरे धीरे कम कर सकती हैं। विटामिन ए (vitamin A) हमारे शरीर की त्वचा में कोलेजन (collagen) के उत्पादन को बढ़ाता है,

जिस से हमारी शरीर की त्वचा की सेहत में सुधार होता है। हालांकि, आमतौर पर सूरज की खतरनाक रोशनी के संपर्क में आने पर रेटिनोइड्स (retinoids) का इस्तेमाल करने से आपकी त्वचा अधिक जयदा क्षतिग्रस्त हो सकती है। 

इसलिए, retinoid के साथ एक अच्छा सनस्क्रीन लगाना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। क्या आपको मालूम है कि कई सारे एंटी-एजिंग क्रीमों में काफी अलग-अलग मात्रा में रेटिनोल (retinol), अल्फा हाइड्रॉक्सी एसिड (Alpha hydroxy acid), कीनेटिन (kinetin), कोएंजाइम (Koyezime), कॉपर पेप्टाइड्स (copper petaedes) और एंटीऑक्सिडेंट्स (Antioxidants) भी पाए जाते हैं, ये सभी हमारे शरीर पर होने वाले झुर्रियों के खिलाफ प्रभावी हो सकते हैं।

तो दोस्तों कुछ इस तरह से भी आप चेहरे पर होने वाली झुर्रियां को ठीक कर सकते हैं। तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते हैं और हमारे चेहरे पर झुरिया करने के नए तरीके के बारे में जानते हैं।

निम्बू के फायदे और नुकसान | Lemon Health Benefits in Hindi

झुर्रियों के लिए केमिकल पील – Chemical peels for wrinkles in HIndi

दोस्तों अगर आपके चेहरे पर झुरिया कुछ ज्यादा ही हो चुके हैं तो आप केमिकल पील का उपयोग करके अपने चेहरे की झुर्रियों को गायब कर सकते हैं।  मुंहासे और झुर्रियां समेत त्वचा संबंधी कई तरह के परेशानी के इलाज के लिए डर्मेटोलॉजिस्ट dermatologist “केमिकल पील” (chemical peels) नामक treatment करवाने की सलाह देते हैं।

हम आपके बेहतर जानकारी के लिए बता दे कि केमिकल पीलिंग में हमारा त्वचा के झुर्रियों से प्रभावित हिस्से पर कुछ खास प्रकार के रसायनिक घोल का उपयोग किया जाता है, जैसे अल्फा-हाइड्रोक्सी एसिड (Alpha hydroxy acid), ट्राइक्लोरोएसेटिक एसिड (trychloroacetic) और ग्लाइकोलिक एसिड (glycolic acid) आदि जैसे बहुत सारे ।

क्या आपको मालूम है कि यह रसायनिक घोल लगाने से हमारे शरीर पर के मृत त्वचा हट जाती है और उस की जगह पर एक नई त्वचा आ जाती है, जो पहले वाले त्वाचे से कोमल व चिकनी भी होती है। हालांकि, आपको बडे बडे विसेसगयो से यह सुझाव दिया जाता है, कि केमिकल पीलिंग (Chemical peeling) करवाने से पहले आपको अपने त्वाचे को किसी डर्मेटोलॉजिस्ट (dermatologist) से सलाह अवश्य लें लेना चाहिए ।

गाइस ऐसा इसलिए है क्योंकि अक्सर  कुछ रसायनिक पदार्थों से संपर्क में आने पर आपकी शरीर की त्वचा थोड़ी बहुत प्रभावित भी हो सकती है। इस लिए ऐसी स्थिति में अपने त्वचा को किसी अच्छी विशेषज्ञ की सलाह लेना जरूरी है। तो दोस्तों कुछ इस तरह से भी आप अपने चेहरे पर होने वाली झुर्रियों को ठीक कर सकते हैं। तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते हैं और हमारे चेहरे पर झुरिया करने के नए तरीके के बारे में जानते हैं।

पपीता खाने के फायदे और नुकसान | Papaya health benefits and Side Effects in Hindi (2022)

बोटॉक्स से झुर्रियों का इलाज – Botox for wrinkles in Hindi

Best Botox in Delhi | Wrinkle Treatment in Delhi | DermaWorld Skin Clinic

झुर्रियों के लिए बोटॉक्स (biotaxs) का इंजेक्शन (injection) लगवाना दुनिया भर में ज्ञात सबसे लोकप्रिय और जाना माना उपचारों में से एक है। हम आपके जानकारी के लिए बता दे को बोटॉक्स, बोटुलिनम टॉक्सिन (botulinum toxin) से प्राप्त होता है और इस के injection हमारे चेहरे या प्रभावित मांसपेशियों में भी लगाया जाता है।

बोटॉक्स इंजेक्शन biotaxs injection उन रसायनिक संकेतों को पूरे तरह से अवरुद्ध करता है, और उसके साथ जो हमारे शरीर के मांसपेशियों को  संकुचित करते हैं।

क्या आपको मालूम है कि मांसपेशियों को अच्छी तरह से संकुचित होने से रोक कर, झुर्रिया होने से भी रोक थाम काफी आसानी से की जा सकती है। आपको मालूम नही है तो मैं आपको बता देता है कि यह हमारे शरीर की त्वचा को पूरी तरह से मुलायम और कोमल बना देता है।

बोटॉक्स इंजेक्शन (biotaxs injection) के प्रभाव तकरीबन तीन से चार महीने तक रह सकते हैं। अत्यंत दुर्लभ मामलों में, भी biotaxs के injection से कुछ छोटे मोटे side effect भी हो सकता है,

जैसे की हमारी त्वाचे की मांसपेशियां हल्का हल्का ढीली होकर लटक जाना। biotaxs का injection हमेशा एक प्रमाणित व अनुभवी डर्मेटोलॉजिस्ट terminologist से ही लगवाना चाहिए । तो दोस्तों कुछ इस तरह से भी आप अपने चेहरे की झुर्रियों को ठीक कर सकते हैं। तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते हैं और हमारे चेहरे पर झुरिया करने के नए तरीके के बारे में जानते हैं।

झुर्रियों का उपचार डर्माअब्रेजन से – Dermabrasion for wrinkles in Hindi

Dermabrasion San Diego - Dermal Exfoliating | Changes Plastic Surgery

दोस्तों हम आपको जानकारी के लिए बता दें कि यह Dermabrasion (चर्म-अपघर्षण) एक सर्जरी प्रक्रिया होता है, और जिसमें एक तेजी से घूमने वाले उपकरण का इस्तेमाल किया जाता है। यह उपकरण  हमारे त्वचा की उपरी सतह पर एक विशेष घर्षण बनाता है और मृत त्वचा को खींच लेता है।

इस प्रक्रिया को मुँहासे, झुर्रियाँ, और दाग धब्बे  और अन्य प्रकार के निशान हटाने में काफी ज्यादा प्रभावी माना जाता है। हालाँकि, इस प्रक्रिया से त्वचा में सूजन, खुजली, पपड़ी बनना और त्वचा की रंग मे बदलाव हो सकता है।

आमतौर पर, ये सभी लक्षण लगभग कुछ हफ्तों के बाद दूर हो जाते हैं। लेकिन फिर भी आपको  एक बार डॉक्टर को जरूर दिखा लेना चाहिए और उनसे सलाह ले लेना चाहिए , क्योंकि कुछ मामलों में ये लक्षण लंबे समय तक बने रह सकते हैं और यहां तक की ये लक्षण गंभीर भी हो सकते हैं। माइक्रोडर्माब्रेशन, डर्माब्रेशन की तुलना में काफी कम आक्रामक प्रक्रिया होता है और उतना ही प्रभावी भी होता है।

माइक्रोडर्माब्रेशन को अलग-अलग समय में कई बार किया जाता है, जिससे त्वचा अधिक जवान और तरोताजा दिखाई देती है। तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते हैं और हमारे चेहरे पर झुरिया करने के नए तरीके के बारे में जानते हैं।

खूबानी के बीज पत्ती जूस और उसके फ़ायदे | Apricot fruit Juice, Leaves, Seeds health skin hair benefits in hindi

झुर्रियों के लिए फिलर्स – Fillers for wrinkles in Hindi

Injectables & Fillers for Wrinkles - La Belle Vie

दोस्तों क्या आपको मालूम है कि फिलर्स सिंथेटिक रसायन होते हैं, जिस में आमतौर पर हयालुरोनिक एसिड (hyaluronic acid) भी होता है। हयालुरोनिक एसिड  (hyaluronic acid) एक प्राकृतिक पोलिमर है, जिसका उपयोग हमारे चेहरे के मुंह , नाक और गाल आदि जैसे के आस-पास पड़ने वाली लगभग सभी सिलवटों को ठीक करने के लिए ही किया जाता है।

चेहरे के इन गड्ढेदार या गहरे हिस्सों की त्वचा को ऊपर की ओर थोड़ा बहुत उठाने के लिए ही इन्हें फिलर्स यानी कि fillers के मदद से भरा जाता है। ये fillers आम तौर पर अस्थायी होते हैं, जिसका अर्थ यह है कि इनका प्रभाव तकरीबन पांच से छह महीनों तक ही हमारे चेहरे के तवचा पर रहता है और इस के बाद आपको फिर से यह प्रक्रिया कही पर जा कर के करवानी पड़ती है।

हम आपके जानकारी के लिए बता दे कि फिलर्स के थोडे बहुत साइड इफेक्ट यानी कि नुकसान भी हो सकते हैं, जिस में चेहरा हल्का नील पड़ना, सूजन और हल्का हल्का दर्द भी शामिल हैं। ये सभी side effects आमतौर पर कुछ ही दिनों में ही पूरे तरह से दूर हो जाते हैं। हालांकि, मेरे हिसब से आपको यदि ये अपने आप ठीक न हों, तो डॉक्टर को दिखा लेना चाहिए नही तो आगे बडा समस्या भी हो सकती है। तो चलिए अगले टॉपिक की ओर बढ़ते हैं और हमारे चेहरे पर झुरिया करने के नए तरीके के बारे में जानते हैं।

लीची फल बीज रस के फ़ायदे व नुकसान | Lychee Fruit, Seed, Juice health skin hair benefits side effects in hindi

झुर्रियों खुर्रियों के लिए करवाएं फेसलिफ्ट – (Facelift for wrinkles in Hindi)

The Facelift Operation – Facial Plastic Surgeon Gulf Shores AL

दोस्तों हम आपको जानकारी के लिए बता दें कि इस Facelift को आमतौर पर राईटिडेक्टॉमी के नाम से भी जाना जाता है, जो एक प्रकार की कॉस्मेटिक सर्जरी होती है। Facelift सर्जरी को आमतौर पर  काफी अधिक जवान दिखने के लिए और झुर्रियों को चेहरे पर से छुपाने के लिए  इसका इस्तेमाल किया जाता है। फेसलिफ्ट में आमतौर पर आपके चेहरे की वसा  या त्वचा को हटाया जाता है। आवश्यकता पड़ने पर कुछ मामलों में Facelift के दौरान त्वचा के नीचे के ऊतकों में कसाव भी लाया जाता है।

 हम आपको बता दें कि यद्यपि फेसलिफ्ट प्रक्रिया से कोई बड़ा दुष्प्रभाव नहीं होता है, लेकिन यह काफी ज्यादा महंगा हो सकता है और  उसके बाद इस प्रक्रिया के बाद ठीक होने में कई हफ्ते  का समय लग जाते हैं। काफी लोगों के द्वारा यह भी माना जाता है कि एक बार किए जाने पर इसका प्रभाव लंबे समय तक (कम से कम पांच  5 से  लेकर 6 साल) रहता है, लेकिन गर्दन के चारों ओर इसका प्रभाव  धीरे-धीरे कम कम हो सकता है।

सूर्य नमस्कार कैसे करें व इसके फायदे | Surya Namaskar Benefits And precautions In Hindi

  [ Conclusion, निष्कर्ष ]

दोस्तों आप से आशा करता हूं कि आपको मेरा यह लेखChehre Ke Jhuriyaan Hatane Ke Gharelu upay | झुर्रियां क्यो होता है आपको बेहद पसंद आया होगा और आप इस लेख की मदद से वह सभी जानकारी को पूरे विस्तार से प्राप्त कर चुके होंगे जिसके लिए आप हमारे वेबसाइट पर आए थे ।

हमने इस लेख में सरल से सरल भाषा का उपयोग करके आपको इसके बारे में संपूर्ण जानकारी देने की कोशिश की है क्योंकि हमें मालूम है आज भी कई सारे ऐसे लोग हैं जो जानना चाहते हैं कि आखिर यह झाइयां होती क्या है और यह किसके कारण से होती है।

और इस तरह के चहरे पर  होने वाले झुर्रियां का घरेलू उपाय को अपना कर के इसे हम ठीक कर सकते है या नही। और इस झुर्रियां का घरेलू उपाय क्या है और किस तरह से इस झुर्रियां को हम ठीक कर सकते हैं तो इन सभी सवालों से जुड़ी जानकारी देने के लिए हमने इस लेख को स्टेप बाई स्टेप करके लिखा है और आप को समझाने की कोशिश भी कि है ।

आप सभी दोस्तों पर मेरा पर सम्पूर्ण विश्वास है कि आप सभी मेरे इस लेख को ध्यान से पूरे अंत तक पढ़ चुके होंगे और हमारे चेहरे पर होने वाले झुर्रियां से जुड़ी सभी जानकारी प्राप्त कर चुके होंगे।

अगर दोस्तों आपको इस पोस्ट में कहीं भी कोई भी किसी भी तरह को,पढ़ने में या किसी भी चीज में कोई भी दिक्कत हुई होगी तो आप हमारे कमेंट बॉक्स में बेझिझक कुछ भी सवाल पूछ सकते हैं।

हमारी समूह आपकी मैसेज के रिप्लाई जरूर देगी और आप यह भी कमेंट में जरूर बताएं कि चेहरे की झुर्रियां को दूर करने के अचूक घरेलू उपाय और झुर्रियां के होने के कारण पर यह पोस्ट लगा ताकि हम आपके लिए दूसरे पोस्ट ऐसे ही लाते रहे। तो चलिए दोस्तों इसी जानकारी के साथ हम अब इस लेख को समाप्त करते हैं और अगर आपको हमरा यह पोस्ट को पढ़ने के लिए दिल से धन्यवाद………

Parsley क्या है Parsley के फायदे और नुकसान

Previous articleSkin Pigmentation dur karne ke Gharelu Upay | 8+ Best Tips
Next articleAnkhon ke Dark Circles kaise hataye | आँखों के काले घेरे हटाने का घरेलू उपाय (2022)