नमस्कार दोस्तों आशा करता हूं आप बिल्कुल ठीक होंगे आपका हार्दिक स्वागत है हमारे इस लेख में आज के इस लेख की मदद से हम जानेंगे कि सबसे बड़ा दिन कब होता है? (Sabse Bada Din Kab Hota Hai) तो दोस्तों अगर आपको नहीं पता है कि साल में सबसे बड़ा दिन और सबसे छोटा दिन कब कब होता है ।

तो हम इस आर्टिकल में इसी बात पर  चर्चा करने वाले हैं तो दोस्तों अगर आपको यह जानना है तो आप हमारे इस आर्टिकल को पूरा अंत तक आप जरूर पढ़ें  क्योंकि इस आर्टिकल में हम लोग जानेंगे कि सबसे बड़ा दिन कब होता है सबसे लंबी रात कब होती है? और  दिन – रात बराबर कब-कब होते हैं?

 इसके अलावा हम लोग आर्टिकल के अंत में  बात करेंगे कि 2021 मे सबसे बड़ा दिन कब होगा है? इस  सब जानकारी के बारे में पूरा विस्तार से जानने के लिए  बने रहे हमारे इस आर्टिकल के साथ। दोस्तों हम लोग इस लेख में आपको सारी जानकारी सरल से सरल और आसान से आसान भाषा में समझाया है।

लेकिन दोस्तों हमें आप से अनुरोध है कि यह सब जानने के लिए आप हमारे इस  लेख को पूरा अंत तक और ध्यान से जरूर पढ़ें तभी आपको ही सारी जानकारियों के बारे में पूरा ज्ञान मिल पाएगा तो दोस्तों बिना कोई देरी के  चलिए अब आज के इस आर्टिकल को शुरू करते हैं और जानते हैं कि सबसे बड़ा दिन कब होता है? (Sabse Bada Din Kab Hota Hai)

इंटरनेट के फायदे और नुकसान

सबसे बड़ा दिन कब होता है? (Sabse Bada Din Kab Hota Hai)

What is the winter solstice? Here's what you need to know.

अगर हम बात करे कि सबसे बड़ा दिन कब होता है तो सबसे बड़ा दिन 21 जून को होता है और इस दिन को साल का सबसे लंबा दिन बताया गया है. हालांकि ये आवश्यक नहीं है कि हर साल ये दिन 21 June को ही पड़ेगा. यह 20 June से 22 June के बीच किसी भी दिन हो सकता है.

इस दिन हमारे देश भारत के साथ उत्तरी गोलार्ध (Northern Hemisphere) में मौजूद सभी देशों में दिन बड़े होते है और रात छोटी होती है. इस दिन ऐसा भी पल आता है जब आपकी परछाई नहीं बनती है। मतलब कि इस दिन आप की परछाई भी आप का साथ छोड़ देती है।

चलिए दोस्तों अब हम लोग यह भी जान लेते हैं कि 21 June को दिन बड़ा क्यों हो जाता है. दरसल इस दिन सूर्य उत्तरी गोलार्ध (Northern Hemisphere) से चल कर भारत देश के बीच से गुजरी कर्क रेखा में आ जाता है। इसलिए इस 21 June के दिन सूर्य की किरणे ज्यादा समय तक धरती पर रहती है. इस दिन करीब 15 से 16 घंटे तक सूर्य की रौशनी धरती पर पड़ती है।

इसके अलावा हम आपको बता दें कि 21 June के दिन को परछाई भी साथ छोड़ देती है. ये तब होता है, जब सूरज कर्क रेखा के ठीक ऊपर होता है. हालाकि ये पृथ्वी यानी  हमारा धरती की एक सामान्य प्रक्रिया है, हमे इससे  थोड़ा भी घबराना नहीं चाहिए। क्योंकि  एक सामान्य प्रक्रिया है और यह कुछ समय बाद समाप्त हो जाता है।

इस दौरान  हमारी पृथ्वी अपने अक्छ पर घूमते हुए  यानी कि अपने  जगह पर ही घूमते घूमते सूर्य को चक्कर लगाती है। क्यों की पृथ्वी अपने अक्छ पर 23.5° डिग्री झुकी हुई है, इसलिए सूर्य की रौशनी पृथ्वी पर हर जगह एक हि जैसे नहीं पड़ती है, जिसके कारण रात  और दिन का समय हर एक देश में थोड़ा अलग हो जाता है.

21 June के दिन सूरज बहुत उचाई पर  होता है , इस दिन के बाद राते  काकी लंबी और बड़ी  होने लगती है. 21 September आते – आते दिन और रात कि लंबाई बराबर हो जाती है।  और इसके बाद रात सामान्य रूप से  होने लगता है।

उसके बाद 21 September से रात  के लंबा होने का सिलसिला बढ़ता ही रहता है और उस दिन के बाद लगातार रात बड़ी होने लगती  है  , और ये प्रक्रिया 23 December तक जारी रहती है। उसके बाद 23 दिसंबर के बाद  रात और दिन सामान्य रूप से छोटे और बड़े होने लगते हैं।

सलमान खान की जीवनी | Salman Khan Biography in hindi

सबसे लंबी रात कब होती है? (Sabse Lamba Raat kab Hota Hai)

Will You See The 'Christmas Star' On The Solstice? Why 2020's Longest Night  Of The Year Is Unique

अगर आप जानना चाहते हैं कि सबसे लंबी रात कब होती है तो हम आपको बता दें कि हर वर्ष  23 December की रात सबसे लंबी होती है,  लेकिन उस दिन सबसे छोटा दिन होता है. यानी 23 December की रात सबसे लंबी रात होती है. और उसके बाद 23 December से दिन कि लंबाई बढ़ने का सिलसिला शुरू हो जाता है, और यह दिन बढ़ने के सिलसिला 21 June तक चलता है.

लेकिन ऐसा नहीं होता है कि हमारे देश में अगर उस दिन सबसे लंबा दिन है तो पूरी दुनिया में सबसे लंबा ही दिन होगा उस दिन पूरी दुनिया में 20, 21 और 22 June किसी भी दिन हो सकता है, और कहीं कहीं ऐसा है कि 22 June को सबसे लंबा दिन और सबसे बड़ा दिन दिखा गया है। अगर हम बात करें तो पिछली बार वर्ष 1975 में 22 June को सबसे लंबा और बड़ा दिन दिया गया था उस दिन का दिन सबसे लंबा हुआ था और अब ऐसा बताया गया है कि वर्ष 2203 में ऐसा होगा. और वर्ष 1975 जैसा दिन फिर होगा।

रात और दिन के बढ़ने घटने का सिलसिला यूं ही  हर एक साल चलता रहता है. हर साल 21  June के आस पास के दिन बड़े और  लंबे हो जाते है, और फिर उसके बाद December तक आते आते दिन बहुत ज्यादा छोटे होने लगते है.

लेकिन ऐसा देखा गया है कि दक्षिण गोलार्द्ध (South Hemisphere) के अंदर आने वाले देशों के साथ इस प्रक्रिया के बिल्कुल उल्टा होता है. उत्तरी गोलार्ध (Northern Hemisphere) में 21 June को जहां (summer season) गर्मियों की शुरुआत के रूप में देखा जाता है, वहीं दूसरी तरफ (South Hemisphere) दक्षिण गोलार्द्ध में रह रहे लोगों के लिए ये  ठंड और सर्दी की शुरुआत मानी जाती है. क्योंकि इस दौरान सर्दियां शुरू होती है।

इसके अलावा दोस्तों हम आपको बता दें कि 1 जून को पूरे दुनिया में योगा का दिवस के रूप में भी मनाया जाता है और इस योग दिवस के दौरान सभी लोग और हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी भी अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाते हैं।

How to Activate and Deactivate Call forwarding

विंटर सोल्सटिस या शीतकालीन संक्रांति अर्थात साल का सबसे छोटा दिन कब होता है?

हर वर्ष 22 December के दिन को सूर्य की किरण मकर रेखा पर लम्बवत पड़ती है, जिस वजह से दक्षिणी गोलार्द्ध में इस समय ग्रीष्म ऋतू होती है और यहाँ रात छोटी और दिन बड़े होती है।

जबकि इस समय उत्तरी गोलार्द्ध (Northern Hemisphere) में सूर्य की किरण  सीधे ना आकर बल्कि तिरछी पड़ती है, जिस वजह से यहाँ रात बड़ी और दिन छोटा होती है साथ ही यहाँ शीत ऋतू रहती है। इसे विंटर सोल्सटिस या शीतकालीन संक्रांति भी करते है। ऑस्ट्रेलिया, चिली, अर्जेन्टीना, दक्षिण अफ्रीका और न्यूजीलैंड में इस समय गर्मियों का समय रहता है, क्योकि यह दक्षिणी गोलार्द्ध (South Hemisphere) में पड़ता है और यहाँ यह वर्ष का सबसे लम्बा दिन होता है।

QR code क्या है

सोल्सटिस की तारीखों के भिन्न होने का कारण क्या है?

दोस्तों हम आपको बता दें कि सोल्सटिस की तारीखों के भिन्न होने का कारण यह है कि  अलग तिथियाँ मुख्य रूप से calendar कैलेंडर प्रणाली के कारण होती है। अधिकांश पश्चिमी देश ग्रेगोरियन कैलेंडर (Gregorian Calendar) का इस्तेमाल करते है, जो कि एक सामान्य साल में 365 दिन और लीप वर्ष में 366 दिन का होता है.

एक उष्णकटिबंधीय वर्ष वह समय होता है जब पृथ्वी सूर्य के चारों तरफ एक चक्र लगाती है, और पृथ्वी सूर्य के चारों तरफ एक चक्र लगाने में उसे 365.242199 दिन का समय लग जाता है, लेकिन दुसरे गृह के प्रभाव के कारण यह समय वर्ष दर वर्ष थोडा भिन्न-भिन्न होता है जिस वजह से तिथियाँ या तारीख भी बदलती रहती है। जिसके वजह से  बड़ा और छोटा दिन होता है।

HOW TO DELETE DIGI LOCKER ACCOUNT 

2022 मे सबसे बड़ा दिन कब होगा है?

दोस्तों अगर आप जानना चाहते हैं कि 2022 मे सबसे बड़ा दिन कब होगा है तो हम आपको बता दें कि हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी 22 June को साल का सबसे लंबा दिन होगा है। ऐसा इसलिए होगा है क्योंकि दरसल इस दिन सूर्य उत्तरी गोलार्ध (Northern Hemisphere) से चल कर भारत देश के बीच से गुजरी कर्क रेखा में आ जाता है।

इसलिए इस 21 June के दिन सूर्य की किरणे ज्यादा समय तक धरती पर रहती है. इस दिन करीब 15 से 16 घंटे तक सूर्य की रौशनी धरती पर पड़ती है।  इसके वजह से ही 2022 मे सबसे बड़ा दिन 21 June को होगा।

दिन – रात बराबर कब-कब होते हैं?

अगर आप जानना चाहते हैं कि दिन – रात बराबर कब-कब होते हैं तो हम आपकी जानकारी के लिए बता दें की हर वर्ष 21 March और 23 September को ये दो दिन- रात बराबर होते हैं यह इसलिए ऐसा होता क्‍योंकि 21 June को दक्षिणी ध्रुव (South Pole) सूर्य से सर्वाधिक दूर रहता है,  यही कारण है कि इस दिन सबसे बड़ा दिन होता है.

हर साल दो दिन यानी 21 March और 23 September को दिन-रात बराबर होते हैं.

इसके बाद 22 September को सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायन की  तरफ प्रवेश करता है, इसलिए 24 December को सबसे बड़ी रात  और सबसे छोटा दिन होती है. तत्पश्चात 25 December  से दिन की अवधि फिर बढ़ने लगती है.

 FAQs

Q. सबसे बड़ा दिन और सबसे छोटा दिन कब होता है?

21 जून को साल का सबसे लंबा दिन. 23 दिसंबर की रात सबसे लंबी होती है, बल्कि दिन सबसे छोटा होता है

Q. भारत में सबसे छोटा दिन कब होता है?

हर वर्ष 23 December की रात को रात सबसे लंबी होती है।  हालांकि उस दिन, दिन सबसे छोटा होता है.

Q. सबसे लंबा रात कब होता है?

दोस्तों अगर हम बात करे कि सबसे लंबा रात कब होता है तो 21 जून  के रात से रात लंबी होने लगती हैं

Q. दक्षिणी गोलार्ध (South Hemisphere) में सबसे बड़ा दिन कब होता है?

हर वर्ष मे 23 December को दक्षिणी गोलार्ध (South Hemisphere) में साल का सबसे बड़ा और लंबा दिन होता है।

Q. उत्तरी गोलार्ध (Northern Hemisphere) में सबसे बड़ा दिन कब होता है?

हर वर्ष मे 21 June को उत्तरी गोलार्ध (Northern Hemisphere) में साल का सबसे बड़ा और लंबा दिन होता है।

Q. साल में सबसे छोटा दिन कब होता है?

तो दोस्तों हम आपको बता दें कि 23 December की रात सबसे लंबी रात होती है,  लेकिन उस दिन का दिन सबसे छोटा होता है।

Q. साल में सबसे बड़ा दिन कब होता है?

हर वर्ष 21 June को साल का सबसे लंबा और बड़ा दिन होता है।

Q. 2021 मे सबसे बड़ा दिन कब होता है?

हर वर्ष 21 June को साल का सबसे लंबा दिन होता है।

Q. सबसे छोटा दिन कब होता है?

23 दिसंबर की दिन सबसे  छोटा दिन होता है।

[अंतिम विचार , Conclusion]

दोस्तों हमें उम्मीद है कि आपका हमारा आज का  यह आर्टिकल पसंद आया होगा और आप  इस आर्टिकल के मदद से या जान गए होंगे कि सबसे बड़ा दिन कब होता है (Summer solstice) और आप इस आर्टिकल की मदद से इससे जुड़ी और भी काफी जानकारी को प्राप्त कर चुके हैं  दोस्तों हमने पूरा प्रयास किया है कि आपको इस आर्टिकल में पूरा आसान से आसान और सरल से सरल भाषा में समझाया जाए।

और हमें यह भी उम्मीद है कि अगर आप हमारे इस लेख  को पूरा अंत तक पढ़े होंगे तो आपको हमारा इन सारी जानकारियों के बारे में ज्ञान जरूर मिला होगा। दोस्तों अगर आपको हमारा यह आर्टिकल से कुछ भी ज्ञान मिला है तो आप अपने उन दोस्तों के पास से  इस आर्टिकल को शेयर जरूर करें  जिनको या नहीं पता है कि Sabse Bada Din Kab Hota Hai.

दोस्तों अगर आपको इस पोस्ट में कहीं भी कोई भी किसी भी तरह को,पढ़ने में या किसी भी चीज में कोई भी दिक्कत हुई होगी तो आप हमारे कमेंट बॉक्स में बेझिझक कुछ भी सवाल पूछ सकते हैं।

हमारी समूह आपकी कमेंट के रिप्लाई जरूर देगी और आप यह भी कमेंट में जरूर बताएं कि यह पोस्ट सबसे बड़ा दिन कब होता है (Sabse Bada Din Kab Hota Hai) के बारे में जानकारी आपको कैसा लगा ताकि हम आपके लिए दूसरे पोस्ट ऐसे ही लाते रहे। तो चलिए दोस्तों इसी जानकारी के साथ हम अब इस लेख को समाप्त करते हैं और अगर आपको हमरा यह पोस्ट को पढ़ने के लिए दिल से धन्यवाद………😊

Previous articleराकेश टिकैत जीवन परिचय | Rakesh Tikait Biography in Hindi (Father, Caste, Family)
Next articleअल्लू अर्जुन की जीवनी | Allu Arjun Biography in Hindi Family , Wife, Father

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here